हिमाचल में पहाड़ के साथ हाईवे धंसा:लाहौल-स्पीति में राजस्थान के 3 पर्वतारोही लापता; सिक्किम में टनल का काम कर रहे 8 मजदूर बहे, 3 को बचाया, 1 की मौत

शिलाई से पोंटा साहिब को कनेक्ट करने वाले नेशनल हाइवे 707 चंडीगढ़ से देहरादून को जोड़ने वाली मुख्य सड़क है। इस बीच, लाहौल-स्पीति जिले में 3 पर्वतारोही लापता हो गए हैं।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): हिमाचल प्रदेश में लैंडस्लाइड के कई मामले सामने आ रहे हैं। हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में भारी बारिश की वजह से शनिवार को लैंडस्लाइड का खौफनाक मंजर सामने आया है। यहां पहाड़ी खिसकने की वजह से नेशनल हाइवे तबाह हो गया। सैकड़ों की संख्या में लोग रास्ते में फंस गए हैं। कई घंटे से लंबा जाम लगा हुआ है।
हादसा शिलाई सबडिवीजन के काली खान इलाके में हुआ। शिलाई से पोंटा साहिब को कनेक्ट करने वाले नेशनल हाइवे 707 चंडीगढ़ से देहरादून को जोड़ने वाली मुख्य सड़क है। इस बीच, लाहौल-स्पीति जिले में 3 पर्वतारोही लापता हो गए हैं। राज्य आपदा प्रबंधन निदेशक सुदेश कुमार मोख्ता ने कहा कि राजस्थान के पर्वतारोही निकुंज जायसवाल और उनके दो साथी घेपान पर्वत पर लापता हो गए हैं।
सिसू थाना चौकी को मिली जानकारी के अनुसार राजस्थान के बीकानेर के निवासी जायसवाल और उनके दो साथी गांव में होटल त्रिवेणी में ठहरे हुए थे। उन्होंने कहा कि वे सोमवार को घेपान पर्वत पर चढ़ाई के लिए निकले थे और 29 जुलाई को उन्हें वापस आना था। हालांकि वे नहीं लौटे। लापता पर्वतारोहियों की तलाश जारी है।
वहीं, सि‍क्‍क‍िम के ममखोला में चल रही सिवोक-रंगपो रेल परियोजना पर बार‍िश ने कहर बरपाया है। यहां बार‍िश के साथ लैंडस्लाइड के चलते टनल में काम कर रहे कई मजदूर फंस गए, जबकि तेज बार‍िश में 8 मजदूरों भी बह गए। एक मजदूर की मौत हो गई। सूचना पर राहत-बचाव का काम तेजी से चल रहा है।
हादसे की सूचना पर स्थानीय लोगों ने 3 मजदूरों को बचाकर पास के अस्‍पताल में भर्ती कराया है। जहां उनकी हालत नाजुक बनी हुई है। हादसे में मरने वाले मजदूर की पहचान हो गई है। वह नेपाल का रहने वाला है।
IMD के मुताबिक, 1 अगस्त तक देश के पूर्वी, पश्चिमी और मध्य भागों में तेज बारिश होने की संभावना है। इसके अलावा शुक्रवार को बिहार, राजस्थान, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़ और झारखंड समेत कई इलाकों में भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी किया गया है। जम्मू-कश्मीर में भी आज बारिश की संभावना है।
IMD ने अगले 24 घंटे में मध्य प्रदेश के 15 जिलों में भारी बारिश और आकाशीय बिजली गिरने की आशंका जताई है। इन जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। इनमें श्योपुर, मुरैना, भिंड, टीकमगढ़, छतरपुर, सागर, दतिया, शिवपुरी, अनूपपुर, डिंडोरी, नीमच, मंदसौर, रतलाम, बालाघाट और मंडला शामिल हैं। इन जिलों में अगले 24 घंटों में कहीं-कहीं पर भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।
IMD ने उत्तराखंड में भी 2 अगस्त तक बारिश की संभावना जताई है। शुक्रवार को उत्तरकाशी, देहरादून, टिहरी, पौड़ी, नैनीताल, बागेश्वर व पिथौरागढ़ जिले में भारी बारिश की संभावना है। इसे देखते हुए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। शनिवार और रविवार के लिए देहरादून, नैनीताल, बागेश्वर और पिथौरागढ़ में यलो अलर्ट जारी किया गया है।
राजस्थान के नागौर, सीकर और भरतपुर के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है। यहां आज भारी बारिश की संभावना है। इसके अलावा झुंझुनूं, जयपुर, टोंक, भीलवाड़ा, कोटा, झालावाड़, बारां और चूरू में भी तेज बारिश हो सकती है। IMD ने इन जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। फिलहाल प्रशासन की ओर से बचाव कार्य जारी है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.