मध्य प्रदेश के बालाघाट में नक्सलियों को हथियार सप्लाई कर रहे आठ को पुलिस ने पकड़ा, हथियार बरामद ।

गिरोह ने छह माह में तीन राज्यों में हथियार-बारूद समेत दीगर सामान की सप्लाई नक्सलियों को की है।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): नक्सलियों के हथियारों की खेप पकड़ी गई है। मध्य प्रदेश के बालाघाट जिले की पुलिस ने बुधवार को नक्सलियों के लिए ले जाई जा रही हथियारों की खेप पकड़ी है। यह हथियार सुरक्षाबलों को नुकसान पहुंचाने के लिए लाए गए थे। गिरफ्तार आठ आरोपितों ने स्वीकारा है कि बीते कुछ महीनों में उन्होंने कई बार नक्सलियों तक हथियार पहुंचाए हैं। यह अंतरराज्यीय गिरोह राजस्थान, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में हथियारों की खरीद-बिक्री करता था। बालाघाट के पुलिस अधीक्षक अभिषेक तिवारी ने बताया कि जिले में स्थित किरनापुर कीन्ही के जंगल में नक्सलियों तक हथियार पहुंचाने की फिराक में घूम रहे आठ लोगों के कब्जे से पिस्टल, एके-47 की मैग्जीन समेत अन्य सामान जब्त किया गया है।
गिरोह ने छह माह में तीन राज्यों में हथियार-बारूद समेत दीगर सामान की सप्लाई नक्सलियों को की है। आरोपितों ने बताया कि नक्सलियों को बारिश पूर्व पांच हजार कारतूस के साथ पिस्टल और अन्य हथियार-बारूद तथा शिविर लगाने की सामग्री पहुंचाने के लिए करीब एक करोड़ रुपये की डील हुई थी। इस डील को पूरा करने से पहले ही वह पकड़े गए। हालांकि, वह छह माह में 30 लाख का सामान दे चुके हैं। पकड़े जाने वाले नक्सली ये हैं।
– संजय चित्रोढ़ा, ठाणे (महाराष्ट्र)
– रोहित वुटाने, निवासी ठाणे
– घनश्याम आचले, निवासी गोंदिया (महाराष्ट्र)
– विजय कोरेटी, निवासी गोंदिया
– शकील खान, निवासी कोटा (राजस्थान)
– वाजिद तैथरी, निवासी कोटा
– तौसीफ, निवासी झालावाड़ (राजस्थान)
– जितेंद्र अग्रवाल, निवासी झालावाड़
इँले पास से तीन पिस्टल और उसकी तीन मैग्जीन, एके-47, जिलेटिन की आठ छड़, 20 फीट तार, आठ मोबाइल, चार पहिया दो वाहन, नौ एलइडी टार्च, छाता, हवा पंप, एमपी थ्री प्लेयर, पर्स, सूटकेस, कपड़ों से भरे तीन बैग व टेंट का सामान बरामद हुए हैं।।
पुलिस मुख्यालय भोपाल में पुलिस महानिरीक्षक, एंटी नक्सल आपरेशन साजिद फरीद शापू ने बताया कि गिरोह का मास्टरमाइंड संजय है। यह पहले मुंबई में ड्रग्स की सप्लाई करता था। बाद में इसकी मुलाकात गढ़चिरौली में टेलर रामदास से हुई। यहीं से यह घनश्याम के संपर्क में आया। घनश्याम नक्सलियों की वर्दी सिलता था। घनश्याम के जरिये संजय ने नक्सलियों तक हथियारों की आपूर्ति का लिंक बना लिया। आरोपित राजस्थान और कुछ जगह सिकलीगरों से हथियार खरीदते और महाराष्ट्र व सेंधवा (जिला बड़वानी, मध्य प्रदेश) होते हुए मध्य प्रदेश पहुंचाए जाते थे। फिलहाल यह पकड़ बेहद महत्वपूर्ण है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.