Ghaziabad पिटाई Case: आरोपी सद्दाम ने बताया पूरा सच, पुलिस ने जारी किया बयान ।

घटना का विडियो वायरल हुआ तो मंगलवार को पीड़ित का एक और विडियो ट्विटर पर ट्रेंड कर गया।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): गाजियाबाद मे एक मुस्लिम व्यक्ति की पिटाई का वीडियो वायरल हुआ तो बड़ी हाय तौबा मची थी। यूपी पुलिस ने इस मामले में अब ट्विटर सहित 9 लोगों के खिलाफ सोशल मीडिया पर भ्रामक खबरें फैलाने और धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोप में केस दर्ज किया है। इस मामले में आरोपी सद्दाम का पुलिस ने एक वीडियो जारी किया है।
पुलिस ने सद्दाम नाम के आरोपी का वीडियो जारी किया है। सद्दाम ने घटना के दिन के बारे में बताया कि उसकी पत्नी का दूध नहीं उतर रहा था और बच्चा दूध नहीं पी रहा था। उसने सूफी (पीड़ित) को कॉल किया।
सद्दाम ने बताया, ‘सूफी ने कहा कि तीन अंडे, तीन लड्डू, एक सिगरेट और एक अगरबत्ती का पैकेट लाकर बच्चे के ऊपर से उतारकर कुत्ते को डाल देना। उसने कहा कि अभी उसकी तबीयत खराब है इसलिए बाद में आएगा।’
इंतजार के घर पहुंचा था पीड़ित बुजुर्ग
आरोपी ने कहा, ‘5 जून को सूफी आए। वह इंतजार के घर पर थे। इंतजार ने मुझसे कहा कि सूफी को लेकर परवेज के यहां चले जाओ। परवेज आ गया। सूफी को लेकर पहुंच गया। परवेज ने आदिल को फोन किया। आदिल के साथ तीन चार लड़के आए। उसके बाद घटना हुई।’
इधर पुलिस ने पीड़ित बुजुर्ग का एक वीडियो जारी किया है। यह वीडियो घटना के पहले का बताया जा रहा है। इस वीडियो में वह कह रहा है, ‘इंतजार ने कह कर भेजा कि इन्हें ताबीज़ देकर मेरे वश में कर दो। इनसे मेरा काम है।’
बीते सोमवार को गाजियाबाद से एक बुजुर्ग शख्स का विडियो वायरल हुआ। विडियो में दिख रहा है कि बुजुर्ग शख्स मारने वालों के आगे हाथ जोड़ रहा है लेकिन वो उसकी नहीं सुन रहे। आरोपी, बुजुर्ग की पिटाई करते जा रहे हैं। घटना का विडियो वायरल हुआ तो मंगलवार को पीड़ित का एक और विडियो ट्विटर पर ट्रेंड कर गया। इसमें आरोप लगाया गया है कि आरोपियों ने पीड़ित से धर्म विशेष के नारे लगवाए। इसे माहौल बिगाड़ने की साजिश मानते हुए पुलिस ने विडियो वायरल करने वालों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है।
गाजियाबाद पुलिस ने जांच करने पर पाया कि पीड़ित अब्दुल समद से 5 जून को परवेश नाम के एक शख्स के घर में मारपीट में हुई थी। इसमें परवेश के साथ कल्लू, पोली, आरिफ, आदिल और मुशाहिद नाम के शख्स भी शामिल थे। पुलिस के मुताबिक अब्दुल समद तावीज बनाने का काम करता है, उसके दिए गए तावीज से परवेश और बाकी लड़कों के परिवार पर उल्टा असर हुआ। इस वजह से उन्होंने यह कृत्य किया।
पुलिस के मुताबिक अब्दुल समद और परवेश, आदिल, कल्लू वगैरह लड़के एक दूसरे को पहले से ही जानते थे क्योंकि अब्दुल समद के ज़रिए गांव में कई लोगों को तावीज दिए गए थे। इस मामले में मुख्य अभियुक्त परवेश गुज्जर की गिरफ्तारी पहले ही की जा चुकी है। 14 जून को अन्य दो अभियुक्तों कल्लू व आदिल की गिरफ्तारी की गई। फिलहाल मामले में पुलिस की ओर से कार्यवाई जारी है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.