कोरोना वैक्सीन का उत्पादन अगले महीने से होगा दोगुना, सितंबर तक हो जाएगा चार गुना ।

टीका बनाने वाली कंपनियों के ताजा कॉन्ट्रैक्ट्स पर नजर डालें तो जून में देश को 10 करोड़ डोज मिलेंगे, पर सितंबर से 42 करोड़ टीके मिलने लगेंगे।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): कोरोना महामारी से बचाव के सबसे कारगर उपायों में वैक्सीन ही है। कोरोना के खिलाफ वैक्सीनेशन की सुस्त रफ्तार में इस माह भी तेजी की उम्मीद बहुत कम है। लेकिन, अगले महीने से हालात सुधरने लगेंगे। टीका बनाने वाली कंपनियों के ताजा कॉन्ट्रैक्ट्स पर नजर डालें तो जून में देश को 10 करोड़ डोज मिलेंगे, पर सितंबर से 42 करोड़ टीके मिलने लगेंगे।
उत्पादन बढ़ाने के लिए भारत बायोटेक (कोवैक्सीन) ने तीन कंपनियों से कॉन्ट्रैक्ट कर लिया है। इसी तरह स्पूतनिक वी बनाने के लिए भी 7 कंपनियों के साथ डील फाइनल हो चुकी है। ये कंपनियां कब-कब टीके डिलीवर करेंगी, इसकी पूरी जानकारी केंद्र ने जुटा ली है।
इस साल के अंत तक छह और कंपनियों के टीके आ जाएंगे। देशभर में 67 हजार टीका केंद्र हैं, पर टीके की कमी की वजह से 44 हजार केंद्र हफ्ते में 3-4 दिन चल रहे थे। नेशनल कोविड टास्कफोर्स के प्रमुख डॉ. वीके पॉल का कहना है कि जब पोलियो का कार्यक्रम चलता है तो दिन में 8 करोड़ बच्चों को पोलियो ड्रॉप्स दिए जाते हैं। देश में कोरोना वैक्सीन भी इसी रफ्तार से दी जा सकती है।
बायोलॉजिकल-ई ऐसी एकमात्र कंपनी है, जो तीन कंपनियों की वैक्सीन बना रही है। तीनों कंपनियों के साथ टेक्नोलाॅजी ट्रांसफर के करार हो चुके हैं। तीनों कंपनियां विदेशी हैं। बॉयोलॉजिकल-ई की एमडी महिमा दातला ने इसकी पुष्टि की है।
दूसरी ओर, सूत्र बता रहे हैं कि कंपनी ने जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन के 10 करोड़ डोज एडवांस में तैयार कर लिए हैं। मंंजूरी मिलते ही कंपनी इन्हें विदेश भेजेगी। लेकिन, केंद्र सरकार इसका कुछ हिस्सा भारत में ही रखने को लेकर कंपनी से लगातार बात कर रही है। फिलहाल टीका उत्पादन में तेजी हो इस पर पूरा जोर लगाया जा रहा है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.