उत्तराखंड के नरसिंह बद्री मंदिर में हर दिन छोटी हो रही प्रतिमा

उत्तराखंड के चामोली जिले में नरसिंह भगवान का मंदिर है. ठंड के दिनों में यहीं पर भगवान बद्रीनाथ की पूजा होती है इसलिए इसे नरसिंह बद्री भी कहते हैं

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ):भगवान विष्‍णु के चौथे अवतार भगवान नरसिंह (Bhagwan Narsingh) की 25 मई 2021, गुरुवार को जयंती (Jayanti) है. वैशाख महीने के शुक्‍ल पक्ष की चर्तुदशी को भगवान नरसिंह ने अपने भक्त प्रहलाद की रक्षा करने के लिए हिरण्यकश्यप को मारने यह अवतार लिया था. भगवान नरसिंह दैत्‍य राजा हिरण्‍यकश्‍यप को मारने के लिए खंभे को फाड़कर प्रकट हुए थे और उन्‍होंने आधा रूप नर का और आधा सिंह का रखा था, इसलिए उन्‍हें नरसिंह कहा गया. भगवान नरसिंह के वैसे तो कई मंदिर हैं लेकिन उत्तराखंड (Uttarakhand) के चामोली जिले के जोशीमठ में स्थित मंदिर बहुत खास है. इस मंदिर को लेकर एक मान्‍यता है, जिसका सीधा संबंध आपदा से है.कुछ ही महीने पहले उत्तराखंड के चामोली जिले में आई तबाही ने कई लोगों की जान ले ली थी. इसी जिले के जोशीमठ में भगवान नरसिंह को समर्पित एक मंदिर है. सप्त बद्री में से एक होने के कारण इस मंदिर को नारसिंघ बद्री या नरसिंह बद्री (Narsingh Badri) भी कहा जाता है. माना जाता है कि सर्दियों के दौरान संत श्री बद्रीनाथ इस मंदिर में रहते थे.

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.