‘ब्‍लैक फंगस’ के ये खतरनाक लक्षण पहचानने से आँख सहित अन्य अंगों को गँवाने से बचा जा सकेगा ।

ब्लैक फंगस के संक्रमण की वजह से कोविड मरीजों की स्थिति गंभीर हो रही है।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): कोरोना के साथ ब्लैक फंगस का कहर भी अब देश में देखा जा रहा है। एक तरफ जहां कोरोना के मामले तेजी से बढ़ते ही जा रहे हैं, और तीसरी लहर किसी भी वक्त दस्तक दे सकती है। ऐसे में डरा देने वाली कुछ और समस्याएं भी सामने आ रही हैं। देश के अलग अलग राज्यों के अस्पतालों से एक रहस्यमय संक्रमण के मामले देखे जा रहे हैं।
इसे ब्लैक फंगस बताया जा रहा है। इस संक्रमण की वजह से कोविड मरीजों की स्थिति गंभीर हो रही है। डॉक्टरी भाषा में इसे श्लेष्मा (Mucormycosis) के नाम से जाना जा रहा है। अब तक भारत में 200 के करीब इस ब्लैक फंगस के मामले सामने आ गए हैं। आइए, विस्तार से जानते हैं इस फंगल इंफेक्शन के बारे में।
कोरोना से संक्रमित हुए और ठीक हो चुके लोगों की समस्या शायद इतनी जल्दी खत्म नहीं होंगी। काफी पहले से ही Mucormycosis को एक बड़ा खतरा माना जा रहा है। हालांकि, अब तक फंगल इंफेक्शन के मामले ना के बराबर ही देखने को मिले हैं। बावजूद इसके ICMR ने लोगों को चेता दिया है कि अगर फंगल इंफेक्शन को किसी भी तरह हल्के में लिया गया तो ना केवल इससे रिकवर होने में दिक्कत आ सकती है। बल्कि यह वक्त के साथ और भी कई बड़ी समस्याओं का कारण बन सकता है।
ब्लैक फंगस को लेकर विशेषज्ञ बताते हैं कि यह तब होता है जब एक बीमार व्यक्ति सांस लेते समय Mucromycetes को अंदर ले लेता है। यह हवा में ही मौजूद होता है और सांस के जरिए अंदर प्रवेश करता है। इसकी वजह से साइनस कैविटी, लंग्स कैविटी, और चेस्ट कैविटी की समस्या होनी शुरू हो जाती है। हालांकि, अब तक यह साबित नहीं हुआ है कि यह कोरोना से ही संबंधित है।
लेकिन जानकार बताते हैं कि ऐसा तब होता है जब एक मरीज पूरी तरह से रिकवर होने के लिए दवाइयों पर ही निर्भर हो जाता है। ऐसे में यह उन लोगों के लिए अधिक खतरनाक हो सकता है जो पहले से ही मधुमेह या किसी अन्य बीमारी से पीड़ित हैं।
इन लोगों को बड़ी आसानी से अपनी चपेट में ले लेता है ब्लैक फंगस, लक्षणों पर नहीं किया गौर तो हो सकती है मौत
अगर आपको यह फंगल इंफेक्शन हो गया है तो इसकी वजह से आपको गाल की हड्डी में दर्द हो सकता है। यह एक तरफ या दोनों तरफ हो सकता है, यह इस फंगल इंफेक्शन के शुरुआती लक्षण है।
बाद में इस इंफेक्शन की वजह से कई चेहरे पर घाव भी बन सकते हैं। इसके अलावा कई स्किन से संबंधित कई दूसरी समस्याओं को भी यह इंफेक्शन जन्म दे सकता है।
विशेषज्ञ बताते हैं कि जैसे जैसे ब्लैंक फंगल इंफेक्शन किसी व्यक्ति को अपनी चपेट में लेता है तो उसकी आंखों पर भी प्रभाव पड़ सकता है। इसके कारण आंखों में सूजन और रोशनी भी कमजोर पड़ सकती है। इसके अलावा आंखों का लाल होना भी इस फंगल इंफेक्शन के मुख्य लक्षणों में से एक है।
अगर किसी व्यक्ति को यह फंगल इंफेक्शन है तो सबसे पहले इसका असर चेहरे पर दिखाई देता है। हालांकि, इसके अलावा भी शरीर के दूसरे अंगों पर इसके निशान दिख सकते हैं। इससे जुड़े लक्षणों के बारे में नीचे पढ़िए।
एक्सपर्ट बताते हैं कि फंगल इंफेक्शन होने पर यह आपके मस्तिष्क को भी प्रभावित कर सकता है। इसकी वजह से भूलने की समस्या, न्यूरोलॉजिकल समस्या जैसी स्थिति का सामना कर पड़ सकता है। ऐसे में मरीज को अधिक सतर्क रहने की आवश्यकता है।
अगर किसी व्यक्ति ने फंगल मोल्ड को सांस के जरिए अंदर ले लिया है तो यह बेहद खतरनाक स्थिति हो सकती है। यह साइनस कैविटी और नर्व्स पर अटैक करता है। इसकी वजह से आपको भयंकर सिर दर्द का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे लक्षणों को गंभीरता से लें।
इस फंगल इंफेक्शन के लक्षण सबसे पहले चेहरे पर ही दिखाई देते हैं। अगर यह इंफेक्शन किसी को होता है तो शुरुआत में आंखों और नाक के पास काले धब्बे दिखाई दे सकते हैं। वहीं, अगर समय पर समस्या का उपचार न कराया जाए तो पीड़ित को दांत और जबड़े से हाथ भी धोना पड़ सकता है। फिलहाल कोरोना से लड़ने का प्रयास देश की पूरी मशीनरी कर रही है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.