जैश-ए-मोहम्मद की पुलवामा में विस्फोट करने की साजिश हुई नाकाम- 10 किलो आईईडी बरामद

सुरक्षाबलों को इनपुट प्राप्त हुए थे कि जैश के आतंकी आईईडी हमलों को अंजाम देने की साजिश रच रहे हैं। इसी के आधार पर ऑपरेशन शुरू किया गया।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): जाइश की एक बड़ी साजिश को पुलवामा में नाकाम किया गया है। पुलवामा जिले में सुरक्षाबलों ने आतंकी साजिश को नाकाम कर बड़ा हादसा होने से टाल दिया है। 10 किलोग्राम आईईडी( इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस) बरामद हुई है। हमले की साजिश आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने रची थी।
बता दें कि सुरक्षाबलों को इनपुट प्राप्त हुए थे कि जैश के आतंकी आईईडी हमलों को अंजाम देने की साजिश रच रहे हैं। इसी के आधार पर ऑपरेशन शुरू किया गया। कई संदिग्धों से पूछताछ भी की गई। जिसमें 10 किलोग्राम आईईडी बरामद हुई। जिससे एक बड़ा हमला टल गया है।
इससे पहले शुक्रवार को सीमा पार से ड्रोन की मदद से हथियार गिराए गए थे। एक ओर नियंत्रण रेखा पर भारतीय सुरक्षा बल पाक रेंजरों को ईद मिलन पर उपहार भेंट कर रहे थे, तो दूसरी ओर सांबा सेक्टर में पाक रेंजर ड्रोन के माध्यम से हथियार गिराकर अपने मंसूबे जाहिर कर रहे हैं। सीजफायर की आड़ में पाकिस्तान ने सांबा जिले में फिर अपनी नापाक गतिविधियां तेज कर दी हैं।
सीजफायर के दौरान भी पाक रेंजर छिटपुट घटनाओं को अंजाम देते आ रहे हैं। यह पहला मौका नहीं है जब पाक रेंजरों ने ड्रोन सहायता से हथियार गिराए हों। इससे पहले मई 2020 में हीरानगर सीमा के रठुआ क्षेत्र में भारी मात्रा में ड्रोन की सहायता से हथियार गिराए गए थे। तब बीएसएफ ने ड्रोन को मार गिराया था।
जून 2020 में सांबा के बसंतर दरिया में ड्रोन से हथियार गिराए गए। अगस्त 2020 में कूटा के रसाना में हथियार मिले जो ड्रोन से गिराए गए थे। आधा दर्जन पाक ड्रोन के प्रयासों को सेना नाकाम भी कर चुकी है। जिस क्षेत्र से शुक्रवार को हथियार मिले हैं, गत वर्ष 22 नवंबर को इसी क्षेत्र में पाक ने सुरंग निकाली थी। 5 मई 2021 को इसी क्षेत्र में एक पाक घुसपैठिया भी ढेर किया गया है। यह रास्ता पाक घुसपैठियों का पुराना मार्ग रहा है, जिसे दोबारा सक्रिय किया जा रहा है। फिलहाल सुरक्षा बाल सतर्क हैं।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.