डब्ल्यूएचओ ने कोरोना के लिए मॉडर्ना टीके के इमरजेंसी इस्तेमाल को मंजूरी दी।

डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि आने वाले दिनों में चीन की सिनोफार्मा और सिनोवाक टीकों को भी ऐसी ही अनुमति प्रदान की जा सकती है।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): दुनिया बाहर में कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण जारी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने मॉडर्ना के कोविड-19 टीके के आपातकालीन उपयोग को मंजूरी प्रदान की है। इस अमेरिकी टीका निर्माता कंपनी के अलावा अब तक एस्ट्राजेनेका, फाइजर-बायोनटेक और जॉनसन एंड जॉनसन के टीकों को डब्ल्यूएचओ आपातकालीन उपयोग की अनुमति दे चुका है।
डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि आने वाले दिनों में चीन की सिनोफार्मा और सिनोवाक टीकों को भी ऐसी ही अनुमति प्रदान की जा सकती है। मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) स्टीफेन बानसेल ने एक बयान में कहा कि मॉडर्ना टीके को कई महीने के इंतजार के बाद शुक्रवार को हरी झंडी दी गई क्योंकि कंपनी की तरफ से विश्व स्वास्थ्य संगठन को आंकड़े उपलब्ध कराने में देरी हुई।
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने शुक्रवार को आपातकालीन उपयोग के लिए जिन आधुनिक कोविड वैक्सीन को सूचीबद्ध किया, उनमें मॉर्डना भी शामिल है। इसके साथ ही यह डब्ल्यूएचओ से आपातकालीन मान्यता प्राप्त करने वाला पांचवी वैक्सीन बन गई है। दिसंबर 2020 में, यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने मॉर्डना वैक्सीन के लिए एक आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण जारी किया, जबकि यूरोपीय चिकित्सा एजेंसी ने इसे इस साल जनवरी में पूरे यूरोपीय संघ में मान्य एक विपणन प्राधिकरण दिया।
डब्ल्यूएचओ इमरजेंसी यूज लिस्टिंग (ईयूएल) के लिए मान्य होने से पहले, इसके रणनीतिक सलाहकार समूह ने जनवरी में पहले से ही आधुनिक वैक्सीन की समीक्षा की थी। इसमें आबादी में टीकों के इस्तेमाल के लिए सिफारिश की गई हैं। मॉर्डना कोविड वैक्सीन एक एमएनआरए-आधारित वैक्सीन है, जिसे एसएजीई ने 94.1 फीसदी की प्रभावी पाया था। फिलहाल पूरे विश्व में कोरोना से लड़ाई के सभी संभावित उपाय किए जा रहे हैं।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.