सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने भारत से अच्छे रिश्ते बनाने के प्रति प्रतिबद्धता जताई।

साक्षात्कार में क्राउन प्रिंस ने पड़ोसी ईरान पर नरमी दिखाते हुए कहा, हम नहीं चाहते हैं कि ईरान से रिश्ते जटिल हों।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस ने भारत के प्रति एक बड़ा बयान दिया है। सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने राष्ट्रीय टेलीविजन पर एक साक्षात्कार में खुलकर कहा है कि वे भारत के साथ अच्छे रिश्ते चाहते हैं और हम इस पर काम भी कर रहे हैं। उन्होंने भारत के पड़ोसी पाकिस्तान पर कोई विशेष बात नहीं की जो बताता है कि सऊदी क्राउन प्रिंस भारत के साथ हैं।
क्राउन प्रिंस ने ईरान पर दिखाई नरमी, कहा- कुरान ही हमारा संविधान
क्राउन प्रिंस बिन सलमान ने अपने देश के संविधान पर पूछे गए सवाल पर कहा कि कुरान ही हमारा संविधान है। क्राउन प्रिंस ने कहा कि हम खाड़ी देशों के अलावा मध्य-पूर्व के देशों और फ्रांस, यूरोप, रूस, लैटिन अमेरिका और अफ्रीका से अच्छे रिश्ते बनाने पर जोर दे रहे हैं। इन सबमें भारत प्रमुख है जिसके साथ हम रिश्तों की मजबूती के पक्षधर हैं। उन्होंने कहा कि अमेरिका के साथ हमारी रणनीतिक साझेदारी है इसलिए वह खास है।
इस साक्षात्कार में क्राउन प्रिंस ने पड़ोसी ईरान पर नरमी दिखाते हुए कहा, हम नहीं चाहते हैं कि ईरान से रिश्ते जटिल हों। हम चाहते हैं कि दोनों देशों को एक-दूसरे का फायदा मिले। हम समस्याओं का हल चाहते हैं लेकिन हम नकारात्मकता के शिकार हैं। उन्होंने कुरान को देश का संविधान मानते हुए देश की कोरोना काल में आर्थिक संकट पर भी आयकर नहीं लगाने की पुष्टि की। आशंका थी कि वे संकट के हालात में आयकर लगा सकते हैं लेकिन उन्होंने कहा हम पहले ही पिछले वर्ष वैट बढ़ा चुके हैं।
कुरान के पालन को बाध्य हैं सरकार, विधायिका व शाह
सऊदी क्राउन प्रिंस बिन सलमान ने कहा, हमारा संविधान कुरान है और ये आगे भी रहेगा। शासन की बुनियादी व्यवस्था में भी यह दिखता है। चाहे सरकार हो या विधायिका के रूप में शूरा काउंसिल अथवा शाह, तीनों ही कुरान का पालन करने के लिए बाध्य हैं। लेकिन सामाजिक मामलों में हम उन शर्तों को ही लागू करते हैं जिन पर कुरान में कहा गया है। शरीयत की बिना स्पष्ट व्याख्या किए हम सजा नहीं दे सकते।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.