कल फ्रांस से वायुसेना प्रमुख द्वारा विदा किए गए 4 राफेल जेट आज पहुँच गए भारत ।

फ्रांस की कंपनी डसॉल्ट एविएशन से 2016 में ऑर्डर किए गए 36 राफेल फाइटर जेट्स में से अब तक 21 राफेल भारतीय वायुसेना को फ्रांस में सौंपे जा चुके हैं, जिनमें से अब तक 14 भारत पहुंचे हैं।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): भारतीय वायुसेना 4 और राफेल जेट शामिल हो गए हैं। वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने फ्रांस के मेरिग्नैक-बोर्डो एयरबेस से बुधवार को 4 राफेल फाइटर जेट्स को हरी झंडी दिखाकर भारत के लिए रवाना किया। ये विमान बुधवार देर रात भारत पहुंच गए। वायुसेना के मुताबिक, ये चारों विमान 8000 किलोमीटर की नॉन-स्टॉप उड़ान भरकर भारत पहुंचे। संयुक्त अरब अमीरात की मदद से रास्ते में एयर-टु-एयर री-फ्यूलिंग भी की गई। जानकारी के मुताबिक, ये विमान गुजरात के जामनगर एयरबेस पहुंचे हैं।
फ्रांस की कंपनी डसॉल्ट एविएशन से 2016 में ऑर्डर किए गए 36 राफेल फाइटर जेट्स में से अब तक 21 राफेल भारतीय वायुसेना को फ्रांस में सौंपे जा चुके हैं, जिनमें से अब तक 14 भारत पहुंचे हैं। बाकी 7 विमान फ्रांस में वायुसेना के पायलटों को प्रशिक्षण देने के लिए रखे गए थे। इन्हीं में से 4 को तीन दिवसीय दौरे पर फ्रांस पहुंचे वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने हरी झंडी दिखाकर भारत के लिए रवाना किया। ये 6 राफेल 28 अप्रैल को भारत के लिए उड़ान भरने वाले थे, लेकिन एयर चीफ मार्शल भदौरिया की यात्रा के चलते यह कार्यक्रम एक सप्ताह पहले तय कर दिया गया ।
एयर चीफ मार्शल भदौरिया की फ्रांस यात्रा के दौरान ही डसॉल्ट कंपनी पायलटों के अगले बैच को प्रशिक्षण देने के लिए फ्रांस में 4-5 और राफेल्स वायुसेना को सौंप देगी। अपनी यात्रा के दौरान एयर चीफ भदौरिया एक फ्रांसीसी राफेल स्क्वाड्रन का दौरा करेंगे। वह अपने समकक्ष फिलिप लेविग्ने से मिलेंगे और पेरिस में स्थापित अंतरिक्ष कमान भी देखने जाएंगे।
वायुसेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि यह 4 विमान आने के बाद भारत के पास 18 मल्टी रोल राफेल जेट हो जाएंगे। यह सभी 4 लड़ाकू विमान फ्रांस से पहली स्क्वाड्रन अंबाला एयरबेस के लिए उड़ान भरेंगे, जहां इन लड़ाकू विमानों को दूसरी स्क्वाड्रन के लिए तैयार किया जाएगा। चीन और पाकिस्तान जैसे पड़ोसियों के मद्देनजर भारत अपनी सेनाओं की ताकत को बढ़ा रहा है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.