Reliance और Future Group की डील पर Amazon ने उठाए सवाल, किशोर बियानी को भेजा नोटिस

अमेज़ॉन ने बताया कि हमने फ्यूचर ग्रुप के प्रमोटर को लीगल नोटिस भेजा है।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): रिलायंस को अपना रिटेल बिजनेस बेचने वाले किशोर बियानी के फ्यूचर ग्रुप को अमेरिकी कंपनी अमेजॉन ने लीगल नोटिस भेजा है। अमेज़ॉन ने बताया कि हमने फ्यूचर ग्रुप के प्रमोटर को लीगल नोटिस भेजा है। फ्यूचर ग्रुप ने मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज से डील साइन कर पिछले साल के कॉन्ट्रैक्ट का उल्लंघन किया है। पिछले साल अमेरिकी कंपनी अमेजॉन ने फ्यूचर कूपंस लिमिटेड में 49 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी थी, जिसके फ्यूचर रिटेल में 7.3 फीसदी शेयर हैं। सूत्रों के मुताबिक अमेज़न ने फ्यूचर ग्रुप से हुए राइट ऑफ फर्स्ट रिफ्युजल और नॉन-कंपीट पैक्ट के तहत फ्यूचर कूपंस लिमिटेड में निवेश किया था। ET Now के अनुसार अमेरिकी ई-कॉमर्स कंपनी अमेजॉन ने कांट्रैक्ट अरेंजमेंट का हवाला देते हुए कहा है कि फ्यूचर ग्रुप की रेस्ट्रेक्टिड लिस्ट की कंपनियां किसी डील में हिस्सा नहीं ले सकतीं। दरअसल बढ़ते कर्ज और दिवालिया प्रक्रिया से बचने के लिए किशोर बियानी ने अगस्त में अपने रिटेल बिजनेस को मुकेश अंबानी के रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड को बेच दिया था। मुकेश अंबानी की रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड ने किशोर बियानी के फ्यूचर रिटेल बिजनेस का 24,713 करोड रुपए में अधिग्रहण किया था। अमेज़ॉन के प्रवक्ता ने फ्यूचर ग्रुप को लीगल नोटिस भेजने की पुष्टि करते हुए कहा कि कंपनी ने यह प्रक्रिया शुरू कर दी है। फ्यूचर रिटेल के साथ डील के बाद रिलायंस रिटेल की फ्यूचर ग्रुप के स्टॉर्स तक पहुंच हो गई है इसमें बिग बाजार जैसा जाना पहचाना ब्रांड भी शामिल है। बियानी के फ्यूचर रिटेल चैन में बिग बाजार, Ezone फैशन, फैशन एट बिग बाजार (FBB), फूडहॉल और Easyday जैसे कई सुपरमार्केट ब्रांड्स शामिल थे।इस डील के बाद रिलायंस रिटेल बिजनेस में अमेजॉन और वालमार्ट की फ्लिपकार्ट को कड़ी टक्कर देने की स्थिति में आ गया है। भारत के रिटेल बिजनेस में रिलायंस और अमेजॉन को कड़ी टक्कर देने के लिए अमेरिका की रिटेल कंपनी वॉलमार्ट ने टाटा ग्रुप की ई- कॉमर्स बिज़नेस के लिए लांच होने वाले सुपरऐप प्लेटफॉर्म में निवेश की इच्छा जताई है। इस निवेश के लिए वॉलमार्ट और टाटा ग्रुप की बातचीत चल रही है। बताया जा रहा है वॉलमार्ट टाटा ग्रुप की सुपरऐप प्लेटफॉर्म में 25 अरब डॉलर का का निवेश कर सकता है। 15 साल तक रिटेल सेक्टर में नहीं लौटेंगे किशोर बियानी: फ्यूचर ग्रुप की रिलायंस रिटेल के साथ हुई डील में यह करार भी हुआ है कि किशोर बियानी और उनका परिवार 15 साल तक रिटेल बिजनेस में नहीं लौटेगा। कर्ज के संकट में फंसे किशोर बियानी अपने जनरल और हेल्थ इंश्योरेंस बिजनेस को भी बेचने पर विचार कर रहे हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय स्टेट बैंक से इसे लेकर उसकी बात चल रही है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.