केरल सोना तस्करी: NIA ने 6 जगहों पर ताबड़तोड़ छापेमारी, 6 आरोपी गिरफ्तार

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने केरल सोना तस्करी मामले में छह और लोगों को गिरफ्तार किया है व छह जगहों पर तलाशी ली। एजेंसी ने केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम स्थित यूएई के वाणिज्य दूतावास में राजनयिक माध्यमों से सोने की तस्करी के मामले में अभी तक 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। एनआईए प्रवक्ता ने जानकारी दी कि गिरफ्तार आरोपी रमीस केटी के साथ साजिश रचने के मामले में 30 जुलाई को दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। ये हैं एर्नाकुलम के जलाल एएम और मालापुरम के सईद अलवी ई। उन्होंने कहा कि 31 जुलाई को मामले में दो और आरोपियों को गिरफ्तार किया गया, जिनमें मालापुरम निवासी मोहम्मद शफी पी और अब्दु पीटी शामिल हैं। प्रवक्ता ने बताया कि एनआईए ने 1 अगस्त को दो और लोगों को गिरफ्तार किया, जिनमें एर्नाकुलम निवासी मुहम्मद अली इब्राहिम तथा मुहम्मद अली हैं। जांच में पता चला कि वे साजिश में शामिल थे और तिरुवनंतपुरम में रमीस केटी से तस्करी किया गया सोना लेने तथा अन्य साजिशकर्ताओं में उसे बांटने में जलाल एएम की मदद कर रहे थे। अधिकारी ने कहा कि मुहम्मद अली पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) का सदस्य है और केरल पुलिस ने पहले उसके खिलाफ एक प्रफेसर की हथेली काटने के मामले में आरोप पत्र दाखिल किया था, लेकिन 2015 में मुकदमे के बाद वह बरी हो गया। उन्होंने बताया कि एनआईए ने 2 अगस्त को छह स्थानों पर छापे मारे जिनमें एर्नाकुलम में जलाल ए एम तथा राबिन्स हमीद के घर और मालापुरम में रमीस के टी, मोहम्मद शफी, सईद अलवी और अब्दु पी टी के घर हैं। प्रवक्ता के अनुसार तलाशी के दौरान दो हार्ड डिस्क, एक टेबलेट कम्प्यूटर, आठ मोबाइल फोन, छह सिम कार्ड, एक डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर और पांच डीवीडी जब्त की गई। इनके अलावा बैंक पासबुक, क्रेडिट/डेबिट कार्ड, यात्रा दस्तावेज और आरोपियों के पहचान पत्र समेत अनेक कागजात भी जब्त किये गये।एनआईए ने केरल में एक राजनयिक बैगेज में 14.82 करोड़ रुपये मूल्य के 30 किलोग्राम सोने की तस्करी के मामले में 10 जुलाई को जांच संभाली थी और तस्करी में कथित रूप से शामिल रहने के सिलसिले में एक महिला संदिग्ध समेत चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। फिलहाल मामले में आगे जांच चल रही है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.