आरएसएस के स्वयंसेवक कोरोना रोकने में लगे कर्मवीरों और मुसीबत में फंसे मजदूरों की कर रहे हैं सेवा।

आरएसएस के ये स्वयंसेवक दिन में जहां दिहाड़ी मजदूरों, घुमंतू जातियों के साथ अन्य लोगों को खाना उपलब्ध करा रहे हैं, वहीं रात में सड़कों, चौराहों पर तैनात 'कर्मवीर' पुलिसकर्मियों को चाय पिलाने में जुटे हैं।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : ओम तिवारी : आज देश में कोरोना का प्रकोप बढ़ा है और जहां कुछ लोग बेहद गैरजिम्मेदाराना व्यवहार कर रहे हैं, वहीं हमेशा एक ख़ास बुद्धिजीवी वर्ग के लगातार निशाने में रहने वाला आरएसएस सेवा कार्य में जुटा है। लेकिन लॉकडाउन के बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता लगातार ऐसे लोगों की मदद में लगे हुए हैं। आरएसएस के ये स्वयंसेवक दिन में जहां दिहाड़ी मजदूरों, घुमंतू जातियों के साथ अन्य लोगों को खाना उपलब्ध करा रहे हैं, वहीं रात में सड़कों, चौराहों पर तैनात ‘कर्मवीर’ पुलिसकर्मियों को चाय पिलाने में जुटे हैं। आरएसएस के लखनऊ विभाग के कार्यवाह अमितेश ने एनबीटी ऑनलाइन से बातचीत में कहा कि लखनऊ महानगर के विभिन्न क्षेत्रों में 4 आपदा राहत केंद्र बनाए गए हैं। इन केन्द्रों से दिहाड़ी मजदूरों, घुमंतू जातियों और ऐसे बाकी लोग जो लॉकडाउन के कारण फंसे हुए हैं, उन्हें राशन पहुंचाया जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘हमने ऐसे लोगों की बाकायदा सूची बनाई है, जो मुश्किल में हैं, जिनके पास खाने को राशन नहीं है। हमारी योजना है कि ऐसे लोगों तक लॉकडाउन के दौरान हम राशन पहुंचाते रहें। साथ ही बिना अपनी जान की परवाह किए रात में हमारी सुरक्षा के लिए तैनात पुलिसकर्मियों को हमारे कार्यकर्ता चाय भी पहुंचा रहे हैं।’ सूत्रों के मुताबिक, आरएसएस के लखनऊ विभाग के विभाग प्रचारक संजय के निर्देशों के अनुसार संघ के कार्यकर्ताओं ने विधिवत योजना बनाई है। संजय मिश्रा, सतीश दुबे समेत बड़ी संख्या में आरएसएस के स्वयंसेवक सेवाकार्य में लगे हैं। सघ कोशिश में लगा है की कोरोना की रोकथाम के लिए उठाए गए क़दमों के कारण लोगो को कम से कम मुश्किलों का सामना करना पड़े।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.