हिमाचल बजट 2020: कर्मचारियों व मजदूरों का बढ़ेगा मानदेय, हजारों को मिलेगा रोजगार

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : हिमाचल प्रदेश की जयराम सरकार ने शुक्रवार को अपना तीसरा बजट पेश किया। सीएम जयराम ठाकुर ने 2 घंटे 46 मिनट तक बजट भाषण दिया। सीएम ने कुल 49131 करोड़ रुपये का बजट पेश किया, जबकि सरकार की राजस्व प्राप्ति 38429 करोड़ रुपये रही। बजट में शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि, उद्योग के लिए बड़ी घोषणाओं समेत हर वर्ग को कुछ न कुछ देने का प्रयास किया। सीएम जयराम का गुड गवर्नेंस पर जोर रहा तो रोजगार के अवसर पैदा करने पर भी ध्यान दिया। विधायक निधि बढ़ाकर जहां माननीयों को खुश करने का प्रयास किया तो वहीं दिहाड़ीदारों को छह साल की बजाय पांच साल में नियमित करने की घोषणा की। शराब के दाम बढ़ाने को लेकर आलोचना का शिकार रही सरकार ने तंबाकू सेवन मुक्त पंचायत को पांच लाख रुपये देने की घोषणा कर मास्टर स्ट्रोक खेला। सुपर 100 विद्यार्थियों की प्रतिभा को सरकार निखारेगी। इस प्रकार सरकार का कुल राजस्व घाटा 684 करोड़ रुपये रहा। हिमाचल को संपूर्ण राज्य का दर्जा प्राप्त करने के 50वें वर्ष को स्वर्ण जयंती वर्ष के रूप में मनाया जाएगा। अधिकारियों से उपदान को स्वेच्छा से त्याग करने की अपील की। गृहिणी सुविधा योजना के तहत नए पात्र परिवारों को भी लाभान्वित किया जाएगा। प्रदेश में 2000 लोकमित्र केंद्रों को स्वीकृति प्रदान की गई। 20 हजार रिक्त पदों को भरे जाने का फैसला लिया गया। इसमें 3,000 पद राज्य विद्युत बोर्ड, 1,000 पद कांस्टेबल, लगभग 5,000 पद शिक्षा विभाग,1,300 पद अन्य विभागों में भरे जाएंगे। हवाई अड्डों के विस्तारीकरण, मंडी हवाई अड्डे के निर्माण तथा हेलीपोर्ट्स के निर्माण के लिए 1,013 करोड़ रुपये का प्रावधान। स्वर्ण जयंती आश्रय योजना के तहत अनुसूचित जाति के 5,100 परिवारों को घर। इसके अतिरिक्त अन्य वर्गो के लाभार्थियों को षहरी तथा ग्रामीण आवास योजनाओं के अन्तर्गत 4,900 घर। गुड गवर्नेंस इंडेक्स बनाया जाएगा। गुड गवर्नेंस में पहले स्थान पर रहने वाले जिले को 50 लाख रुपये तक ईनाम के तौर पर दिए जाएंगे। इसके अलावा द्वितीय रहने वाले जिला को 35 लाख रुपये का ईनाम मिलेगा। प्रदेश सरकार एमएलए फंड डेढ़ करोड़ से बढ़ाकर पौने दो करोड़ कर दिया। माननीयों की विवेक अनुदान राशि आठ लाख से 10 लाख रुपये हुई। ऐसी पंचायत जो तंबाकू सेवन से मुक्‍त हो जाएगी, उसे पांच लाख रुपये तक का अनुदान दिया जाएगा। दिहाड़ीदार छह की बजाय अब पांच साल में नियमित किए जाएंगे। अनुबंध कर्मचारियों का वेतन भी बढ़ाया जाएगा। ग्रेड पे 25 फीसद बढ़ाई जाएगी। हिम आरोग्य योजना शुरू होगी। हर व्यक्ति को यूनीक आइडी दी जाएगी। इससे उपचार करवाने में सुविधा होगी। बुजुर्गों के लिए सम्मान योजना शुरू की जाएगी। 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को आयुर्वेदिक अस्पतालों में मुफ्त दवाएं मिलेंगी। मेधा प्रोत्साहन योजना: स्वर्ण जयंती सुपर-100 योजना शुरू होगी। दसवीं कक्षा में सर्वाधिक अंक लेने वाले 100 विद्यार्थियों को एक लाख रुपये प्रति विद्यार्थी अनुदान दिया जाएगा। इससे उन्हें व्यावसायिक संस्थानों में प्रवेश के लिए सहायता मिलेगी। आशा वर्कर्स का मासिक मानदेय 500, वाटर गार्ड का 300, पंचायत चौकीदार का 500 रुपये मानदेय बढ़ाया गया है। सामाजिक सुरक्षा पेंशन 150 रुपये बढ़ाई गई है। अब 1000 रुपये पेंशन मिलेगी।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.