छुड़ाए गए 52 बंधुआ मजदूर, अमित शाह ने कांग्रेस-जेडीएस पर कसा तंज

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : नई दिल्ली।कर्नाटक के हासन जिले से आंध्र प्रदेश और तेलंगाना की 17 महिलाओं और चार बच्चों समेत 52 बंधुआ मजदूरों को छुड़ाया गया। पुलिस अधीक्षक (हासन जिला) एएन प्रकाश गौड़ा ने मीडिया को बताया कि पांच लोगों के गिरोह को गिरफ्तार किया गया है और उन पर बंधुआ मजदूर कानून, एससी-एसटी अत्याचार निवारण कानून और आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

पुलिस अधीक्षक के मुताबिक, जिले में बंधुआ मजदूरों का मामला हाल ही में सामने आया था, जब 20 दिन से बंधुआ मजदूरी कर रहा एक मजदूर बाड़ काटकर गिरोह के चंगुल से भागने में कामयाब रहा और उसने पुलिस को सूचना दी। इन मजदूरों को कथित तौर पर बंधुआ बनाकर रखा जाता था, खेतों में काम के लिए ले जाया जाता था और वेतन मांगने पर इनकी पिटाई की जाती थी।

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने ट्वीट कर कहा, ‘यह काफी आश्चर्यजनक है कि दलित और आदिवासी समुदाय के लोगों को गुलाम बना उन्हें बेहद अमानवीय स्थिति में कष्ट झेलना पड़ा है लेकिन कांग्रेस-जेडीएस सरकार मंत्रिमंडल के विस्तार में व्यस्त है। लोग सब देख रहे हैं। मैं अपने कार्यकर्ताओं से यातनाएं झेल रहे लोगों की मदद करने की अपील करता हूं।’

पुलिस उपायुक्त रोहिणी सिंधूरी ने बताया कि ज्यादातर मजदूर कर्नाटक में हासन, हावेरी और रायचुर जिलों के हैं और इनमें से चार आंध्र प्रदेश तथा तेलंगाना के हैं। मजदूरों को जिले के एक गांव में बंधक बनाकर रखा गया और जब वे अपने काम के लिए वेतन मांगते तो उन्हें कथित तौर पर पीटा जाता था। पुलिस अधिकारी ने बताया कि जिला प्रशासन ने पीड़ितों को 71 लाख रुपये का मुआवजा दिए जाने के लिए कर्नाटक सरकार को प्रस्ताव भेज दिया है। प्रत्येक मजदूर को घर लौटने के लिए 5,000 रुपये दिए गए हैं।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.