कुल्लू जिला को करेंगे टीबी मुक्त : यूनुस

विश्व टीबी दिवस पर उपायुक्त ने किया ऐलान, व्यापक जागरुकता अभियान चलेगा
डाक्टर की सलाह के अनुसार दवा खाकर पूरी तरह ठीक होता है रोगी: सीएमओ
कुल्लू,उपायुक्त यूनुस ने कहा है कि वर्ष 2025 तक भारत को टीबी रोग से मुक्त करने के केंद्र सरकार के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में कार्य करते हुए कुल्लू जिला में वर्ष 2020 तक टीबी के नए रोगियों की संख्या शून्य करने पर विशेष जोर दिया जाएगा। इसके लिए जिला भर में टीबी रोग और इसके इलाज के संबंध में व्यापक जागरुकता अभियान चलाया जाएगा। इस अभियान में स्वास्थ्य विभाग के अलावा अन्य विभागों, पंचायतीराज संस्थाओं और स्वयंसेवी संस्थाओं की भागीदारी भी सुनिश्चित की जाएगी। शनिवार को विश्व टीबी दिवस के अवसर पर क्षेत्रीय अस्पताल के सम्मेलन कक्ष में आयोजित जागरुकता कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए उपायुक्त ने यह जानकारी दी।
उन्होंने कहा कि जिला में टीबी से संक्रमित लोगों की पहचान के लिए स्वास्थ्य विभाग ने सराहनीय कार्य किया है। इसी कारण जिला में टीबी के रोगियों की तुरंत पहचान संभव हुई है। हाल ही में क्षेत्रीय अस्पताल में अत्याधुनिक सीबी नैट मशीन स्थापित होने से टीबी का टैस्ट बहुत ही सटीक व आसान हो गया है। डाक्टर की सलाह के मुताबिक दवाईयां खाने पर टीबी का रोगी पूरी तरह ठीक हो जाता है। यूनुस ने कहा कि टीबी को लेकर आम लोगों में अभी भी कुछ भ्रांतियां हैं। कई रोगी अपना पूरा इलाज नहीं करवाते हैं और दवाईयां बीच में ही छोड़ देते हैं। टीबी के रोगियों में इस तरह की प्रवृति बहुत ही खतरनाक है, क्योंकि अनियमित रूप से दवाई लेने या बंद करने पर रोगी के शरीर में दवा प्रतिरोधी टीबी हो जाती है और इसके बाद उस पर दवाईयों का कोई असर नहीं होता। उसके संपर्क में आने वाले लोगों में भी इनफैक्शन की आशंका बढ़ जाती है।
इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. सुशील चंद्र ने बताया कि कुल्लू जिला में पिछले वर्ष टीबी के कुल 1393 रोगी पंजीकृत किए गए थे और इस वर्ष फरवरी तक 122 रोगी पंजीकृत हुए। उन्होंने बताया कि टीबी का पूरी तरह इलाज संभव है और इसके रोगियों को निशुल्क दवाईयां दी जाती हैं। रोगी को डाक्टर के सलाह के अनुसार ही दवाईयां खानी चाहिए तथा बीच में दवाईयां नहीं छोडऩी चाहिए। सीएमओ ने बताया कि तीन हफ्ते से अधिक खांसी और सांस फूलने जैसी तकलीफ होने पर तुरंत एक्सरे व बलगम का टैस्ट करवाना चाहिए। इस अवसर पर जन शिक्षा एवं सूचना अधिकारी देवेंद्र गौड़ ने टीबी मुक्त अभियान से संबंधित कई महत्वपूर्ण जानकारियां दीं। कार्यक्रम के दौरान भाषण प्रतियोगिता भी करवाई गई जिसमें चामुंडा नर्सिंग संस्थान मौहल और एएनएम नर्सिंग स्कूल गांधीनगर की छात्राओं ने भाग लिया। इन प्रतिभागियों में नेहा, ज्योति, सपना और हेमलता को उपायुक्त ने पुरस्कृत किया। कार्यक्रम के बाद चामुंडा नर्सिंग संस्थान मौहल और एएनएम नर्सिंग गांधीनगर की छात्राओं ने ढालपुर में जागरुकता रैली निकाली।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.