प्रदेश में नकली दस्तावेजो पर चल रही अधिकतर निजी वॉल्वो बसे।

कंप्यूटर पर तैयार किए गए है लग्जरी बसो के फर्जी दस्तावेज

अवैध लग्जरी बसो से प्रतिदिन सरकार को लग रही लाखो की चम्पत ,अधिकारी बने मूक दर्शक

सुंदरनगर/शिमला/मनाली : प्रदेश में इन दिनों दिल्ली से मनाली,धर्मशाला,चंबा,डल्हौजी,बीड़ बिलिंग ,शिमला सहित विभिन पर्यटन क्षेत्रो के लिए चल रही अधिकतर निजी वॉल्वो व
लग्जरी बसे अवैध दस्तावेजो पर चलाई जा रही है। इनमे से ज्यादातर बसे नकली आर.सी ,बिना रूट परमिट पर चलाई जा रही है। इनके फर्जी दस्तावेज कंप्यूटर पर तैयार किए गए है। इनमे से कुछ एक बसे तो मोजुदा समय में कही भी रजिस्टर्ड ही नही है। लेकिन हैरानी की बात है की परिवहन विभाग के उच्च अधिकारियो को मामले की पूरी जानकारी होने के बावजूद सभी हाथ पर हाथ धरे बैठे है। जिससे ना केवल सरकारी खजाने को प्रतिदिन लाखो रुपयो का चुना लग रहा है बल्कि पर्यटको की जान से भी खिलवाड़ किया जा रहा।इनमे कुछ बसे ऐसी भी है जो अपना जीवन काल पूरा कर चुकी है और इन बसो की सबंधित स्टेट अथॉरिटी ने रजिस्ट्रेशन तक ख़ारिज कर दी है । लेकिन यह बसे हिमाचल में पुराने, फर्जी, फ़ोटो स्टेट कागजो पर चलाई जा रही है। अनेक बसो के पास नेशनल परमिट (01)तक नही है। वही कुछ बसे पड़ोसी राज्यो में मात्र स्टेट परमिट (02)पर रजिस्टर्ड है । ऐसी बसे बिना अनुमति हिमाचल में अवैध रूप से प्रवेश कर रही है वही बिना अनुमति ऐसी बसो का प्रदेश में पसेंजर टैक्स काटे जाने तक का कोई प्रावधान नही है। लेकिन फिर भी यह बसे प्रतिदिन पर्यटको को ढो रही है।इन बसो में आर.जे (राजस्थान),जी.जे (गुजरात),एम.एच (महाराष्ट्र),डी.एल ( दिल्ली),यु.पी (उत्तर प्रदेश),ए.आर (अरुणाचल)
व अन्य राज्यो के फर्जी नम्बर प्लेट लगा कर चलने वाली बसे शामिल है।

घाटा उठा रही सरकारी लग्जरी बसे
प्रदेश सरकार के पास मोजुदा समय में सेकड़ो लग्जरी पर्यटक बसे है। इनमे से कुछ बसे लीज पर है जबकि कुछ स्वय खरीदी गई है।पिछले कुछ वर्षो में ही 45 वॉल्वो बसो को निगम ने स्वय खरीदा है जबकि 52 बसे निजी ओपरेट्रो से वैट लीज पर लिया गया है। लेकिन अवैध रूप से दिल्ली व दूसरे राज्यो से चलने वाली लग्जरी बसो ने परिवहन विभाग की कमर तोड़ कर रख दी है। निजी बसो के चलते सरकारी बसे खाली ही सड़को पर दौड़ रही है। जिससे प्रतिदिन सरकार को लाखो रुपए कि चम्पत लग रही है। वही अवैध रूप से चल रही बसो पर लगाम न लगाए जाने से आय की बजाए घाटा उठाना पड़ रहा है।

समय -समय पर अवैध बसो पर कार्रवाही की जाती है। आगे भी यह जारी रहेगी।
-कुलदीप कौंडल,आर.टी.ओ बिलासपुर

मामला संज्ञान में आया है । छानबीन कर सख्त कार्रवाही अमल में लाई जाएगी।
-डॉ सुरेश जसवाल ,आर.टी.ओ कुल्लू

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.