महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का निधन: 96 वर्ष में ली अपनी अंतिम साँस

भारत सरकार ने फैसला किया है कि ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के निधन कारण 11 सितंबर को एक दिन का राजकीय शोक होगा

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): ब्रिटेन पर 70 साल तक शासन करने वाली, महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का गुरुवार को 96 वर्ष की आयु में निधन हो गया निधन हो गया।वह पिछले कुछ वक्त से बीमार थीं। उन्होंने स्कॉटलैंड में अंतिम सांस ली। पूरा परिवार मौजूद था। उनके सबसे प्‍यारे पोते प्रिंस विलियम परिवार वालों के साथ दादी के पास मौजूद थे।महारानी को श्रद्धांजलि देने के लिए बकिंघम पैलेस के बाहर बड़ी संख्या में लोग पहुंच रहे हैं।

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री लिज ट्रस का कहना है कि महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की मृत्यु से दुनिया भर में शोक फैल गया है। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भी महारानी एलिजाबेथ को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा, यूनाइटेड किंगडम के इतिहास की महत्वपूर्ण घटनाएं महामहिम के नाम से जुड़ी हुई हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें “हमारे समय के दिग्गज” के रूप में याद किया. पीएम मोदी  ने कहा कि उन्होंने “अपने देश और लोगों को प्रेरक नेतृत्व प्रदान किया” और “सार्वजनिक जीवन में गरिमा और शालीनता की पहचान की।पीएम मोदी ने महारानी के साथ वाली अपनी मुलाकात का भी जिक्र किया। मोदी ने लिखा कि 2015 और 2018 में यूके की अपनी यात्राओं के दौरान मेरी महारानी एलिजाबेथ-2 के साथ यादगार मुलाकातें हुईं। एक बैठक के दौरान उन्होंने मुझे वह रूमाल दिखाया जो महात्मा गांधी ने उन्हे उनकी शादी में उपहार में दिया था। भारत सरकार ने फैसला किया है कि ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के निधन के बाद पूरे भारत में 11 सितंबर को एक दिन का राजकीय शोक होगा। रविवार को झंडा आधा झुका रहेगा।

महारानी का अंतिम संस्कार उनके निधन के 10 दिन बाद होगा। इससे पहले, उनके ताबूत को बकिंघम पैलेस से वेस्टमिंस्टर के पैलेस तक निधन के पांच दिन बाद औपचारिक मार्ग से ले जाया जाएगा, जहां रानी तीन दिनों के लिए राज्य में लेटी रहेंगी। इस दौरान लोग उनके अंतिम दर्शन कर सकेंगे, यह स्थल प्रतिदिन 23 घंटे तक खुला रहेगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.