पंजाब चुनाव : प्रधानमंत्री की फिजिकल रैली आज से शुरू।

बता दें कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डेरा ब्यास के प्रमुख से मुलाकात की।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ):  बता दें कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने  डेरा ब्यास के प्रमुख से मुलाकात की। इस मुलाकात के गहरे सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। वहीं, दूसरी तरफ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अमृतसर में अकाल तख्त जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह के साथ मुलाकात की।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार शाम को अपने ट्विटर अकाउंट से राधा स्वामी सत्संग ब्यास के प्रमुख बाबा गुरिंदर सिंह ढिल्लों के साथ अपनी तस्वीर ट‌्वीट की। इस ट्वीट के साथ ही पूरे पंजाब में हलचल मच गई। खास बात है कि PM नरेंद्र मोदी सोमवार को जालंधर में अपनी पहली फिजिकल चुनावी रैली करने आ रहे हैं।
पंजाब में राधा स्वामी डेरे का मजबूत आधार है। पंजाब के अलावा दूसरे कई राज्यों में भी डेरे के अनुयायी हैं। डेरा ब्यास के अनुयायी कई सीटों पर चुनाव परिणाम को प्रभावित करने की ताकत रखते हैं।बाबा जैमल सिंह ने 1891 में डेरा ब्यास की स्थापना की थी। डेरा जमीनी स्तर पर जुड़ा है और अभी तक सियासत से दूर रहा है। हालांकि, डेरे का राजनीतिक विंग मजबूत है। खुलेतौर पर कभी राजनीति की बात नहीं होती और न घोषणाएं होती हैं। कांग्रेस के पूर्व प्रदेश प्रधान मोहिंदर सिंह केपी भी डेरा ब्यास के अनुयायी हैं। चरणजीत सिंह चन्नी भी मुख्यमंत्री बनने के बाद दो बार डेरा ब्यास जा चुके हैं। अकाली नेता बिक्रम मजीठिया भी वहां आते-जाते रहते पंजाब में सक्रिय डेरों को लेकर कोई सरकारी आंकड़े नहीं हैं, लेकिन एक अनुमान के मुताबिक पंजाब में 9,000 सिख और 12,000 गैर सिख डेरे हैं। इनमें से तकरीबन 300 डेरे प्रमुख हैं जिनका पंजाब के साथ हरियाणा में भी असर है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.