कर्नाटक: गृह मंत्री ने कहा ‘हिजाब विवाद के पीछे सांप्रदायिक ताकतें हैं’।

बात दें की शिवमोग्गा जिले के एक कालेज की 58 छात्राओं को शनिवार को निलंबित कर दिया गया।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ):बात दें की  शिवमोग्गा जिले के एक कालेज की  58 छात्राओं को शनिवार को निलंबित कर दिया गया। शिरालाकोप्पा के सरकारी प्री-यूनिवर्सिटी कालेज की ये छात्राएं हिजाब पहनकर कक्षाओं में जाने की इजाजत दिए जाने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रही थीं। वहीं समाचार रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने तुमकुर जिले में 10 छात्राओं के खिलाफ एफआइआर दर्ज की है।तुमकुर जिले की पुलिस का कहना है कि ये लड़कियां गर्ल्स एम्प्रेस गवर्नमेंट पीयू कालेज के बाहर हिजाब को लेकर जारी पाबंदियों का विरोध कर रही थीं। छात्राओं पर निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने के आरोपों आदि से जुड़ी धाराएं लगाई गई हैं। शिरालाकोप्पा के सरकारी प्री-यूनिवर्सिटी कालेज के प्राचार्य का कहना है कि प्रबंधन ने हिजाब पहनकर कक्षाओं में जाने की जिद कर रही छात्राओं को समझाने की कोशिश की लेकिन वह नहीं मानीं। इन छात्राओं को अस्थायी रूप से कालेज से निलंबित कर दिया गया है।
रिपोर्ट के मुताबिक बेलागवी, यादगीर, बेल्लारी, चित्रदुर्गम और श्यामोग्गा जिलों में हिजाब पहनकर पहुंची छात्राओं ने क्‍लासरूम में जानें देने की मांग की। प्रशासन के विरोध करने पर इन जिलों में भी तनाव पैदा हो गया है। तनाव बढ़ता देख बेलागवी में विजय पैरा-मेडिकल कालेज को अनिश्चित काल के लिए बंद कर दिया गया है। हरिहर में एसजेवीपी कालेज की छात्राओं ने कक्षाओं का बहिष्कार किया। इसके अलावा बल्लारी सरलादेवी कालेज में हिजाब पहनकर आई छात्राओं ने हंगामा किया।कोडागु में हिजाब पहनकर कालेज पहुंची छात्राओं ने विरोध प्रदर्शन किया। इलाकों में शांति कायम रहे इसे लेकर कालेजों के आसपास के क्षेत्रों में धारा-144 लागू कर दी गई है। धारा-144 को तोड़ने वालों को गिरफ्तार किया जा रहा है। राज्य के गृह मंत्री अरागा ज्ञानेंद्र का कहना है कि हिजाब विवाद के पीछे सांप्रदायिक ताकतें हैं। उन्‍होंने यह भी कहा कि अदालत के आदेश की अनदेखी करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। राज्‍य के शिक्षा मंत्री बीसी नागेश ने कहा कि हिजाब विवाद के पीछे एक दुष्प्रचार है जिसके जरिए शिक्षा पर धर्म को स्थापित करने की कोशिशें की जा रही हैं।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.