TMC-ISF कार्यकर्ताओं में भिड़ंत के बाद पुलिस ने भांजी लाठी,आंसू गैस के गोले दागे

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में पुलिस ने शनिवार को सड़कें जाम करने पर ISF समर्थक और पुलिस के बीच टकराव के बाद पुलिस ने लाठीचार्ज की और आंसू गैस के गोले दागे। ISF की ओर से दावा किया गया कि TMC कार्यकर्ताओं ने उसके कार्यकर्ताओं पर हमला किया था। इसके लिए उसने TMC नेता अरबुल इस्लाम की गिरफ्तारी की मांग की है।

(एन एल एन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): कोलकाता में सड़कों पर जाम लगाने पर ISF के कार्यकर्ताओं पर पुलिस शनिवार शाम को लाठीचार्ज किया। ISF समर्थकों के प्रदर्शन से मध्य कोलकाता में यातायात ठप हो गया। ISF कार्यकर्ता भांगड़ में तृणमूल कांग्रेस के कथित हमले के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। पार्टी कार्यकर्ताओं के विरोध प्रदर्शन के बाद पुलिस पर उन पर लाठीचार्ज करने का आरोप लगाया गया। वहीं ISF के विधायक नौशाद सिद्दीकी की पार्टी के समर्थकों पर पुलिस पर हमले के आरोप लगे हैं। उन्मादी भीड़ को रोकने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े। इसमें दोनों पक्षों के कइयों के घायल होने की सूचना है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार ISF की पुलिस से हाथापाई के बाद में पुलिस ने उग्र समर्थकों को तितर-बितर करने के लिए पहले लाठीचार्ज किया और फिर आंसू गैस के गोले भी दागे। इसमें पुलिस और ISF समर्थकों के घायल होने की सूचना मिली है।

सूत्रों के माने तो ISF के समर्थक भांगड़ में उनके पार्टी के कार्यकर्ताओं पर भांगड़ में हमले का विरोध कर रहे थे। पूरे धर्मतला चौराहे को व्यावहारिक रूप से ISF समर्थकों ने अपने कब्जे में ले लिया था। उनका दावा था कि भांगड़ में अशांति के लिए पूर्व विधायक अराबुल इस्लाम जिम्मेदार हैं। उनकी पार्टी के लोगों ने ही दिन भर अशांति पैदा की है। इसलिए उनका आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक कि अराबुल इस्लाम की गिरफ्तारी नहीं हो जाती है। ISF के अध्यक्ष नौशाद सिद्दीकी ने कहा कि जब तक TMC के पूर्व विधायक की गिरफ्तारी नहीं हो जाती है। तब तक आंदोलन जारी रहेगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.