नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल को भाजपा ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से किया निलंबित I

नुपुर शर्मा का निलंबन होने के बाद देश में लोगों की ओर से विरोध व्यक्त किया गया। अनेक लोगों ने सोशल मीडिया के माध्यम से नुपुर शर्मा के निलंबन की गलत कहा है व पार्टी के फैसले का विरोध किया है।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): भारतीय जनता पार्टी नुपुर शर्मा के बयान के मामले में कार्यवाई की गई है। भाजपा ने नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया है। आपको मालूम हो कि भाजपा प्रवक्ता नूपुर शर्मा बीते कुछ समय से विवादों में घिरी हुई हैं। उनके द्वारा पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ कथित तौर पर की गई विवादास्पद टिप्पणी का मामला इतना खींच गया कि आखिरकार, भाजपा ने उनकी पार्टी की प्राथमिक सदस्यता वापस ले ली। भाजपा की सेंट्रल डिसीप्लिनरी कमेटी (Central Disciplinary committee) ने नूपुर शर्मा के विचारों का हवाला देते हुए विभिन्न मामलों पर पार्टी की स्थिति के विपरीत उन्हें तत्काल प्रभाव से पार्टी से निलंबित कर दिया है।
पार्टी ने दिल्ली मीडिया के प्रमुख नवीन कुमार जिंदल को भी पार्टी से यह कहते हुए निष्कासित कर दिया कि सोशल मीडिया पर उनके विचार सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ते हैं और इसकी मौलिक मान्यताओं का उल्लंघन करते हैं। दिल्ली के अध्यक्ष आदेश गुप्ता के एक पत्र में कहा गया है कि आपकी प्राथमिक सदस्यता तुरंत समाप्त कर दी जाती है और आपको पार्टी से निकाला जाता है।
बता दें कि विवादों को शांत करने की कोशिश करते हुए भाजपा ने रविवार को कहा कि पार्टी सभी धर्मों का सम्मान करती है और किसी भी धार्मिक व्यक्ति के अपमान की कड़ी निंदा करती है।
भाजपा नेता नकुल शर्मा ने अपने विवादित बयान के लिए माफी मांगी है। उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर कहा, मैं पिछले कई दिनों से टीवी डिबेट पर जा रही थी, जहां रोजाना मेरे आराध्य शिवजी का अपमान किया जा रहा था। मेरे सामने यह कहा जा रहा था कि वो शिवलिंग नहीं फुहारा है। दिल्ली के हर फुटपाथ पर बहुत शिवलिंग पाए जाते हैं,जाओ जा कर पूजा कर लो। मेरे सामने बार-बार इस प्रकार से हमारे महादेव शिव जी के अपमान को मैं बर्दाश्त नहीं कर पाई और मैंने रोष में आकर कुछ चीजें कह दी। अगर मेरे शब्दों से किसी की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंची हो तो मैं अपने शब्द वापस लेती हूं। मेरी मंशा को कष्ट किसी को कष्ट पहुंचाने की कभी नहीं थी।’
नुपुर शर्मा का निलंबन होने के बाद देश में लोगों की ओर से विरोध व्यक्त किया गया। अनेक लोगों ने सोशल मीडिया के माध्यम से नुपुर शर्मा के निलंबन की गलत कहा है व पार्टी के फैसले का विरोध किया है।
भाजपा महासचिव अरुण सिंह ने भाजपा प्रवक्ता नूपुर शर्मा की टिप्पणी को लेकर उठे विवाद के बीच अपने एक बयान में कहा कि पार्टी किसी भी संप्रदाय या धर्म का अपमान या अपमान करने वाली किसी भी विचारधारा के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि भाजपा ऐसे लोगों को बढ़ावा नहीं देती है। हालांकि, भाजपा नेता ने अपने बयान में किसी भी घटना या टिप्पणी का कोई सीधा जिक्र नहीं किया।
अरुण सिंह ने कहा कि भारत के हजारों वर्षों के इतिहास में हर धर्म फला-फूला है। भाजपा सभी धर्मों का सम्मान करती है। भाजपा किसी भी धर्म के किसी भी धार्मिक व्यक्ति के अपमान की कड़ी निंदा करती है। उन्होंने कहा कि भारत का संविधान प्रत्येक नागरिक को अपनी पसंद के किसी भी धर्म का पालन करने और हर धर्म का सम्मान करने का अधिकार देता है। बता दें कि नूपुर शर्मा की टिप्पणी का विपक्षी दलों और मुस्लिम समूहों ने विरोध किया है। फिलहाल नुपुर शर्मा के निलंबन से देश में रेप का माहौल देखा जा रहा है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.