अमेरिकी कंपनियां भारत के ‘मेक फार व‌र्ल्ड’ अभियान में शामिल हों – रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

राजनाथ सिंह अमेरिकन चैंबर आफ कामर्स इन इंडिया (एएमसीएचएम) की वार्षिक आम बैठक में यह टिप्पणी की।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): भारत का मेक इन इंडिया अभियान तेजी से जारी है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भारत और अमेरिका के बीच वाणिज्यिक और आर्थिक स्तंभो को मजूबत करने के महत्व को रेखांकित किया है। गुरुवार को उन्होंने कहा कि दोनों देश रक्षा महत्वपूर्ण और उभरते हुए क्षेत्रों में जुड़ाव बढ़ा रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने कंपनियों का भी भारत की नीतिगत पहलों का लाभ उठाने के लिए ‘मेक इन इंडिया’ से ‘मेक फार व‌र्ल्ड’ की ओर से तेजी से बढ़ने का आह्वान किया।
राजनाथ सिंह अमेरिकन चैंबर आफ कामर्स इन इंडिया (एएमसीएचएम) की वार्षिक आम बैठक में यह टिप्पणी की। यह बैठक दोनों देशों के बीच हाल ही में संपन्न टू प्लस टू की बैठक के ठीक बाद हुई। बैठक में रक्षा मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राष्ट्रपति जो बाइडन के बीच सकारात्मक बातचीत ने दोनों देशों को अधिक महत्वाकांक्षी और रणनीतिक जुड़ाव की तरफ आगे बढ़ने में सक्षम बनाया है। रक्षा मंत्री सिंह ने कहा कि उन्होंने अपनी यात्रा के दौरान पाया कि भारत में अनुसंधान और उद्योग में सह विकास, सह उत्पादन और निवेश के लिए अमेरिकी नेतृत्व की प्रतिक्रिया सकारात्मक है।
टू प्लस टू वार्ता के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि दोनों देशों ने रक्षा के कुछ महत्वपूर्ण और उभरते हुए क्षेत्रों में जुड़ाव को बढ़ाने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि दोनों देशों ने अंतरिक्ष में नए जुड़ाव के अवसर को बढ़ाने के लिए अंतरिक्ष की स्थिति संबंधी जागरुकता पर समझौता किया गया है।
एएमसीएचएम की वार्षिक आम बैठक में राजनाथ सिंह ने कहा कि हाल में कुछ अमेरिकी कंपनियों ने ‘मेक इन इंडिया, मेक फॉर द वर्ल्ड’ के लक्ष्य को हासिल करने के लिए भारतीय उद्योगों के साथ हिस्सेदारी में अपनी उपस्थिति को तेजी से बढ़ाई है। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने विश्वास के साथ कहा कि यह महज एक शुरुआत है। साथ ही उन्होंने कहा कि बढ़ते व्यवसाय के साथ भारत में अमेरिकी कंपनियों द्वारा अधिक निवेशों की वह उम्मीद करते हैं। फिलहाल भारत सरकार भारत को दुनिया का मैन्युफैक्चरिंग हब बनाने की ओर जुटी है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.