’13 दिसंबर’ भारत की संसद पर पाकिस्तानी आतंकियों ने किया था हमला ।

:बता दें कि भारत की संसद पर पाकिस्‍तान स्थित आतंकी संगठन जैश ए मोहम्‍मद के आतंकियों द्वारा हमला किया गया था

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ):बता दें कि भारत की संसद पर पाकिस्‍तान स्थित आतंकी संगठन जैश ए मोहम्‍मद के आतंकियों द्वारा किए गए इस हमले सरकार और सुरक्षा एजेंसियों को इस बात पर सोचने के लिए मजबूर किया कि आखिर इनके लिए कौन सी पुख्‍ता रणनीति अपनाई जाए। दो दशक बाद भी पाकिस्‍तान में इस हमले का खाका खींचने वाले आतंकियों के मुखिया आजाद घूम रहे हैं।

13 दिसंबर 2001 को जब सभी लोग अपने रोजमर्रा की दिनचर्या में मशगूल थे, तभी एक खबर ने सभी का ध्‍यान अपनी तरफ खींच लिया था। ये खबर संसद पर हुए हमले से जुड़ी थी। इसके बाद सभी की नजरें टीवी सेट पर आने वाली पलपल की खबर पर ही जमी रही थीं। पहली बार देश की संसद पर आतंकियों ने हमला किया था। इनसे निपटने संसद के सुरक्षाकर्मियों ने अपनी जिंदगी दांव पर लगा दी थी।

45 मिनट तक आतंकियों के साथ सुरक्षाकर्मियों की मुठभेड़ जारी रही और अंत में सभी आतंकियों को मार गिराया गया था। इस हमले को जैश ए मोहम्‍मद के पांच आतंकियों ने अंजाम दिया था। हमले के लिए संसद को यूं ही नहीं चुना गया था, बल्कि इसके पीछे आतंकी ये जताना चाहते थे कि वो कहीं भी कुछ भी करने की गलती कर सकते हैं। उन्‍हें ये नहीं पता था कि इस हमले में उनका क्‍या हाल होगा।संसद पर हमला करने आए इन आतंकियों का मकसद संसद के मुख्‍य भवन में प्रवेश कर वहां मौजूद सांसदों को निशाना बनाना था, लेकिन इसमें वो कामयाब नहीं हो सके थे। सभी आतंकियों को सुरक्षाबलों ने संसद के बाहर ही ढेर कर दिया था। इस हमले में दिल्ली पुलिस के पांच जवान, सीआरपीएफ की एक महिला कांस्टेबल और संसद के दो गार्ड भी शहीद हो गए थे। इसके अलावा कुल 16 जवान भी घायल हुए थे।

जिस दिन इस हमले को अंजाम दिया गया उस वक्‍त संसद सत्र चल रहा था और अधिकतर सांसद सदन में मौजूद थे। उस दिन संसद में ताबूत घोटाला को लेकर हंगामा चल रहा था। इसकी वजह से कुछ देर के लिए संसद के दोनों ही सदनों को स्‍थगित करना पड़ा था। पीएम अटल बिहारी वाजपेयी और और लोकसभा में विपक्ष की नेता सोनिया गांधी भी हमले से पहले अपने आवास के लिए निकल चुके थे। हालांकि, तत्‍कालीन गृहमंत्री लाल कृष्‍ण आडवाणी संसद भवन में ही थे।
कुछ देर बाद ही जैश के आतंकी सफेद एंबेसडर कार से तेजी से संसद भवन की तरफ आए। इस कार पर गृह मंत्रालय का स्‍टीकर भी लगा था। ये गाड़ी संसद के मेन एंट्रेंस पर लगे बैरिकेड को तोड़ती हुई करीब 11 बजकर 29 मिनट पर संसद के प्रांगण में पहुंची। कार में से निकलते ही सभी पांच आतंकियों ने एके-47 से गोलियों की बौछार शुरू कर दी। संसद में मौजूद सांसदों और दूसरे कर्मियों को उस वक्‍त ऐसा लग रहा था कि जैसे कोई पटाखे छोड़ रहा था, लेकिन जल्‍द ही सभी असलियत का अंदाजा हो गया था। सुरक्षाकर्मियों ने तुरंत मोर्चा संभाला और सदन में एंट्री का गेट बंद कर दिया। आमने-सामने की मुठभेड़ में सभी आतंकियों को मार गिराया गया।

 

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.