WEST BENGAL: जेपी नड्डा के नेतृत्व में परिवर्तन रथ यात्रा को हरी झंडी,कल से यात्रा शुरू ।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा परिवर्तन रथ यात्रा को हरी झंडी दिखाएँगे

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा परिवर्तन रथ यात्रा को हरी झंडी दिखाएँगे, छह फरवरी को प्रदेश भाजपा की ओर से परिवर्तन रथ यात्रा आरम्भ होगी । राज्य सरकार की ओर से इस रथ यात्रा को अनुमति दे दी गई है। लेकिन जहां जहां से रथ यात्रा निकाली जाएगी वहां वहां से भाजपा को स्थानीय प्रशासन से अनुमति लेनी होगी।बताते चलें कि इधर हाई कोर्ट में रथ यात्रा पर रोक लगाने के लिए जनहित याचिका दायर की गई है। कोर्ट की ओर से अभी तक इस पर कोई स्थगित करने का आदेश नहीं आया है। नड्डा का कल नवद्वीप से रथ यात्रा को हरी झंडी दिखाकर रवाना करने का कार्यक्रम प्रस्तावित है। जानकारी के मुताबिक नवद्वीप के पुलिस प्रशासन रथ यात्रा के बारे में भाजपा से पूरी जानकारी मांगी है।
प्रदेश भाजपा की ओर से बताया गया कि नड्डा शुक्रवार रात करीब 8.40 बजे कोलकाता एयरपोर्ट पर पहुंचेंगे। इसके बाद वह न्यूटाउन स्थित वेस्टिन होटल में रात्रि विश्राम करेंगे। जेपी नड्डा बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले महीने भर चलने वाली पार्टी की रथयात्रा का छह फरवरी, शनिवार को शुभारंभ करेंगे। जबकि 11 फरवरी को दूसरे खंड की रथ यात्रा को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह रवाना करेंगे।भाजपा ने चुनाव में अपने पक्ष में समर्थन तैयार करने के लिए फरवरी और मार्च में रथयात्राएं निकालने का निर्णय लिया है। यह यात्राएं पांच खंडों में होंगी और राज्य के सभी 294 विधानसभा क्षेत्रों से गुजरेंगी। पार्टी के कई शीर्ष नेता इस रथयात्रा के दौरान राज्य में पहुंचेंगे। ये रथयात्राएं शनिवार, सोमवार और अगले मंगलवार को नवद्वीप, कूचबिहार, काकद्वीप, झारग्राम और तारापीठ से रवाना होंगी।जेपी नड्डा छह फरवरी को इस यात्रा का उद्घाटन करने के लिए नवद्वीप में होंगे। अमित शाह भी 11 फरवरी के रथयात्रा कार्यक्रम में शामिल होंगे।’’ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने विश्वास प्रकट किया कि रथयात्रा अप्रैल मई में होने वाले चुनाव से पहले पार्टी के लिए पासा पलटने वाली होगी। राज्य में 2018 में भी पार्टी ने ऐसी ही रथयात्राओं की योजना बनाई थी, लेकिन राज्य सरकार द्वारा अनुमति देने से इन्कार करने के बाद अंतिम घड़ी में इस कार्यक्रम को स्थगित करना पड़ा था।रुपये का बजट तय कर दिया है। लेकिन हकीकत में इनमें से 480 करोड़ रुपये नगर निगम के कर्मचारियों और जरूरी सेवाओं पर ही खर्च हो जाएंगे। ऐसे में नगर निगम को शहर के विकास के लिए केंद्र सरकार से सिर्फ 27 करोड़ ही मिले हैं।यह भाजपा को भी पता है कि यह सिर्फ आंकड़े का बजट है। सिर्फ कागजों में ही बजट बढ़ाकर पास किया जा रहा है। वास्तविकता से परे होने पर कांग्रेस ने इस पर सवाल उठाया है। सदन की बैठक में वास्तविकता से परे बजट होने को लेकर कांग्रेस पार्षद सवाल भी खड़े करेंगे। कांग्रेस पार्षद सतीश कैंथ का कहना है कि बाकी राशि कहां से आएगी इसकी भी जानकारी बजट में होनी चाहिए। कैंथ का कहना है कि जो बैठक बुलाई जा रही है उसका कोई फायदा नहीं है। अपनी आय और मिलने वाली ग्रांट के आधार पर ही बजट तैयार होना चाहिए।

 

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.