चौरी-चौरा शताब्दी महोत्सव आज, प्रधानमंत्री ने किया शहीदों को नमन।

बता दें की गोरखपुर में चौरी-चौरा शताब्दी महोत्सव आज मनाया जा रहा हैं।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ):बता दें की गोरखपुर में चौरी-चौरा शताब्दी महोत्सव आज मनाया जा रहा हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की आजादी की खातिर अपना जीवन बलिदान करने वाले बलिदानियों को नमन किया। इससे पहले सीएम योगी आदित्यनाथ ने चौरी-चौरा कांड पर प्रकाश डाला।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार्यक्रम को ऑनलाइन संबोधित करते हुए कहा कि चौरी-चौरा के बलिदानी हो वीर शहीदों के चरणों में प्रणाम करता हूं आदर पूर्वक श्रद्धांजलि देता हूं। चौरीचौरा की पवित्र भूमि पर देश के लिए बलिदान होने वाले और देश के स्वाधीनता आंदोलन को नई दिशा देने वाले वीरों को प्रणाम करता हूं। देश जब आजादी के 77वे बरस में प्रवेश कर रहा है। यह आयोजन उसे और महत्वपूर्ण बना दे रहा है।
सभी मां भारती की वीर संतान थे। ऐसी बहुत कम घटना होगी जिसमें एक साथ 19 लोगों को फांसी दी गयी। आजादी के आंदोलन में ऐसी बहुत कम घटना होगी जिसमें एक ही घटना में 19 संग्राम सेनानियों को फांसी पर लटका दिया गया हो। महामना के प्रयासों से डेढ़ सौ लोगों को फांसी से बचा लिया गया। आज का दिन बाबा राघव दास और महामना जी को भी प्रणाम करने का है। ब्रितानी हुकूमत 172 लोगों को फांसी देने पर उतारू थी लेकिन बाबा राघवदास व महामना मदन मोहन मालवीय के प्रयास से 150 से अधिक की जान बवह ली। आज भारत खुद कोरोना की वैक्सीन बना रहा है। दुनिया के बड़े देशों से तेजी से टीकाकरण कर रहा है तो हमारे स्वतंत्रता सेनानियों की आत्मा को गर्व महसूस हो रहा होगा। कोरोना काल में 150 से अधिक देशों के नागरिकों को दवाई भेजी। मदद पहुंचाई। हजारों नागरिकों को सुरक्षित उनके देश भेजा। दुनिया के बड़े-बड़े देशों से भी तेज गति से टीकाकरण कर रहा है। कोरोना काल मे देश के सामने जो चुनौतियां आईं उनके समाधान को यह बजट नई तेजी देने वाला है। पहले कई दिग्गज कह रहे थे कि इतने संकट के बाद कर लगाना पड़ेगा लेकिन देह वाशियों पर कोई बोझ नहीं बढ़ाया। सरकार ने ज्यादा से जुड़ खर्च करने का फैसला किया।

पीएम मोदी ने कहा कि गांव को बाजार व मंडी से जोड़ने, पूप बनाने, रेल की पटरी बिछाने, शिक्षा, रेल बस चलाने, स्वास्थ्य के लिए खर्च किया जाएगा। इन कार्यों के लिए काम करने वालों की भी जरूरत होगी। निर्माण के लिए लोगों की जरूरत होगी। रोजगार मिलेगा। दशकों से बजट का मतलब सिर्फ घोषणा ही रह गई थी। बजट को हिसाब किताब का बही खाता बना दिया गया था। पहले की सरकारों ने बजट ऊ ऐसी घोषणाओं का माध्यम बन दिया था जिसे पूरा ही नहीं कर पाते थे। लेकिन अब सोच व अप्रोच बदल दिया गया है। हमारे टीकाकरण अभियान से दुनिया के कई देश सीख रहे हैं। गोरखपुर में ले और सिक्स लेन सड़क बन रही है गोरखपुर से 8 शहरों के लिए फ्लाइट की सुविधा भी है कुशीनगर में बन रहा इंटरनेशनल एयरपोर्ट टूरिज्म सेक्टर को आगे बढ़ाया गया।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.