केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का धरना जारी ।

बता दें की केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का धरना बुधवार को भी जारी रहेगा।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): बता दें की केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का धरना बुधवार को भी जारी रहेगा। दिल्ली से सटे हरियाणा (टीकरी और सिंघु बॉर्डर) और उत्तर प्रदेश (यूपी गेट और चिल्ला बॉर्डर) समेत कई बॉर्डर सील हैं, जिससे लोगों को आवाजाही में दिक्कत पेश आ रही है। दिल्ली पुलिस ने वैकल्पिक रास्तों के इंतजाम किए हैं, लेकिन लोगों को घंटों जाम से जूझना पड़ा रहा है। यह सिलसिला पिछले तकरीबन एक पखवाड़े से जारी है।इससे पहले मंगवलार को दिल्ली हरियाणा सीमा पर चल रहा किसानों का आंदोलन कारोबारियों पर भारी पड़ रहा है। सिंघु बॉर्डर पर हरियाणा की तरफ स्थित दर्जनों वाहनों के शोरूम और सर्विस सेंटर बंद करने पड़ गए हैं। दिल्ली की तरफ तीन पेट्रोल पंप और सीएनजी पंप को भी बंद कर दिया गया है। क्योंकि सड़क बंद होने के कारण वाहन चालक ईंधन भाराने के लिए नहीं आ रहे हैं। यहां पर काम करने करने वाले सैकड़ों लोगों को आंदोलन खत्म होने तक छुट्टी पर भेज दिया गया है।

कारोबारियों का कहना है कि आंदोलन जल्द खत्म नहीं हुआ तो घर पर खाने के लाले पड़ जाएंगे। सिंघु गांव के रहने वाले राजेश गुप्ता प्रापर्टी डीलर है। उनका कार्यालय सिंघु बॉर्डर पर हरियाणा की तरफ है। वे पिछले एक सप्ताह से कार्यालय नहीं जा रहे हैं। उनका कहना कि कार्यालय के बाहर आंदोलनकारी नहा रहे हैं, साथ कपड़े सुखा रहे हैं। सड़क पूरी तरह से बंद होने के कारण कोई भी कार्यालय नहीं आ सकता। ऐसे में पिछले एक सप्ताह से घर पर ही दिन बीत रहा है। यदि ऐसा कुछ और दिन चला जो परिवार वालों का पेट भरना भी मुश्किल हो जाएगा।सड़क बंद होने के कारण दर्जनों वाहनों के बड़े-बड़े शो रूम और सर्विस सेंटर बंद हैं। यहां पर रोजाना हजारों रुपये का कारोबार होता है। कृष्णा कार सर्विस सेंटर के कर्मचारी अभिषेक का कहना है कि एक सप्ताह से अधिक दिन से काम बंद पड़ा है। रोजाना 15 से 30 हजार रुपये का काम यहां पर होता था। एक दर्जन से अधिक लोग काम करते हैं। लेकिन आंदोलन के कारण काम पूरी तरह से बंद है। यही हाल वहां पर स्थित तीन पेट्रोल पंप और सीएनजी पंप है। यहां पर बॉर्डर सील होने से पहले रोजाना हजारों वाहनों में ईंधन भरा जाता है।

 

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.