किसानों के आंदोलन से देश प्रभावित,राजधानि समेत आस पास के इलाक़ों में यातायात पूरी तरह से बाधित।

बता दें की किसानों के आंदोलन से राजधानि समेत आस पास के इलाक़ों में यातायात पूरी तरह से बाधित हो चुकी हैं।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ):बता दें की किसानों के आंदोलन से राजधानि समेत आस पास के इलाक़ों में यातायात पूरी तरह से बाधित हो चुकी हैं।दिल्ली कूच के लिए मंगलवार दोपहर भारतीय किसान भानू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर भानु प्रताप सिंह सैकड़ों किसानों के साथ आगरा, मथुरा और जेवर, दनकौर होते हुए नोएडा के चिल्ला बॉर्डर तक पहुंच गए। ट्रैक्टरों और अन्य वाहनाें पर सवार होकर किसान चिल्ला बॉर्डर से दिल्ली में घुसने लगे तो दिल्ली पुलिस ने बैरिकेडिंग करके किसानों को रोक दिया और दोनों तरफ से वाहनों का आवागमन बंद कर दिया।शाम 4:30 बजे के बाद सड़क यातायात पूरी तरह बाधित हो गया और किसान सड़क पर धरना देकर जम गए। इससे वाहन चालकों को दो से तीन घंटे भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। अगले आदेश तक नोएडा-दिल्ली आवागमन के लिए दोनों रास्ते बंद कर दिए गए हैं। किसान एक माह के राशन के साथ-साथ कपड़े व रजाई समेत सभी इंतजाम करके आए हैं।इधर, किसानोें का कहना है कि जब तक मांगें पूरी नहीं होंगी, वह धरने से नहीं हटेंगे। दिल्ली पुलिस ने किसानों से वार्ता करके बुराड़ी जाने को कहा, लेकिन किसान संसद तक जाने की बात पर अड़ गए। ऐसे में दिल्ली पुलिस ने सड़क पर जेसीबी खड़ी कर दी, ताकि किसान अगर ट्रैक्टरों से आएं तो जेसीबी को न हटा सकें। रात होने पर किसानों ने पुलिस से अस्थायी शौचालय और पानी आदि की मांग करते हुए खाना बनाकर खाया और वहीं डेरा डाल लिया।

ठाकुर भानु प्रताप सिंह का कहना है कि केंद्र सरकार ने तीन कृषि कानून बनाए हैं और एमएसपी निर्धारित नहीं की है। इसके खिलाफ किसानों के आंदोलन का समर्थन करते हैं और जब तक उनको संसद तक जाने नहीं दिया जाएगा, तब तक वह चिल्ला बॉर्डर पर ही बैठे रहेंगे। किसान नेता महेंद्र सिंह चौरोली का कहना है कि सरकार ने किसानों के हित में एमएसपी लागू नहीं की, जिसका किसान विरोध कर रहे हैं और जब तक मांगें पूरी नहीं होंगी, धरना जारी रहेगा।किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल दोपहर में चिल्ला बॉर्डर पर पहुंचा था, लेकिन दिल्ली पुलिस ने प्रवेश नहीं दिया और वापस भेज दिया। कम संख्या में होने से किसानों को वापस लौटना पड़ा और फिर बड़ी संख्या में एकत्र होकर वापस आए।किसानों के चिल्ला रेगुलेटर पर पहुंचते ही लिंक रोड पर वाहनों की रफ्तार थम गई। ऐसे में एहतियात बरतते हुए ट्रैफिक पुलिस ने तुरंत वाहनों को दूसरे मार्गों पर डायवर्ट कर दिया। इसमें लिंक रोड से दिल्ली के अलावा शहर के भीतर जाने के लिए रूट तय किए गए। ट्रैफिक पुलिस के अधिकारियों ने बताया कि शाम के समय चिल्ला रेगुलेटर पर बड़ी संख्या में किसानों के पहुंचने से ट्रैफिक व्यवस्था बाधित हो गई।जाम जैसे हालात हो गए। ऐसे में पीछे से आने वाले वाहनों को दूसरे रूट पर डायवर्ट कर दिया गया। जाम को खत्म करने के लिए डीएनडी पर वाहनों को मोड़ा गया। इसके अलावा एक्सप्रेसवे से आने वाले वाहनों को कालिंदी कुंज की ओर डायवर्ट कर दिया गया। दोनों रूट पर वाहन आराम से निकल गए।

 

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.