दिसंबर महीने की शुरूआत के साथ ठंड का कहर।

बता दें की इनदिनो देश में ठंड का कहर बढ़ना शुरू हो गया है।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ):बता दें की इनदिनो देश में  ठंड का कहर  बढ़ना शुरू हो गया है। पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी का दौर जारी है जिसका असर मैदानी इलाकों में साफ देखा जा रहा है। कई मैदानी इलाकों में सुबह की शुरूआत कोहरे के साथ हुई। हालांकि यहां दोपहर के समय चटख धूप निकलने के भी आसार नजर आ रहे हैं, लेकिन ठंड का कहर जारी रहेगा। हरियाणा, उत्तर प्रदेश, पंजाब समेत कई राज्यों में कंपाने वाली ठंड ने दस्तक दे दी है। तो वहीं, तमिलनाडु और केरल जैसे राज्यों में निवार के बाद अब एक और तूफान के आने की आशंका है। इस कारण इन इलाकों में भारी बारिश और तेज हवाएं चलने की उम्मीद है।हरियाणा में कंपाने वाली ठंड की शुरूआत हो गई है। राज्य में ठंड के चलते लोगों को अपने रोजमर्रा के काम करना मुश्किल हो रहा है। नारनौल प्रदेश का सबसे ठंडा इलाका रहा यहां न्यूनतम तापमान 6.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इसके बाद हिसार और रोहतक हैं जहां पिछले तीन दिनों में तापमान पांच और छह डिग्री सेल्सियस के बीच बना हुआ है। हिसार में रात में तापमान 6.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है और इसके साथ ही यहां साढ़े तीन साल का रिकॉर्ड टूट गया है। इसके बाद रोहतक है जहां तापमान 7.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

दिल्ली में नवंबर का महीना इस साल रिकॉर्ड तोड़ने वाला रहा। दिल्ली में यह महीना 71 सालों में सबसे ठंडा दर्ज किया गया और आने वाले समय में ठंड और बढ़ने की उम्मीद जताई जा रही है। मौसम विभाग का कहना है कि नवंबर में औसत न्यूनतम तापमान 10.2 डिग्री सेल्सियस रहा। चार दिन (3, 20, 23 व 24 नवंबर) ऐसे थे जब शीतलहर चली। इससे पहले 23 नवंबर को न्यूनतम तापमान 6.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। बता दें कि इससे पहले 1949 के नवंबर महीने में इतनी ठंड पड़ी थी।उत्तराखंड के कुछ इलाकों में चटख धूप से लोगों को राहत मिलने के आसार दिख रहे हैं। मंगलवार को यहां मौसम साफ रहेगा और कई स्थानों पर चटख धूप निकली हुई है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.