सोने की क़ीमतों में आई तेज़ी, 1500 से अधिक की बढ़ोतरी

पिछले तीन दिनों के अंदर सोने के भाव में 1500 रुपये से अधिक की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): अक्टूबर का महीना सोने चांदी के भाव के लिए कुछ खास नहीं रहा लेकिन नवंबर आते ही सोने चांदी की चमक में तेजी से इजाफा हुआ है। पिछले तीन दिनों के अंदर सोने के भाव में 1500 रुपये से अधिक की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। एचडीएफसी सिक्योरिटीज ने इस बारे में जानकारी दी है। आज चांदी के भाव में 2 हजार रुपये प्रति किलोग्राम से ज्यादा की तेजी देखने को मिली। जानकारों का कहना है प्रोत्साहन पैकेज की उम्मीद में दोनों कीमती धातुओं के भाव में तेजी देखने को मिली। शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन की तेजी के साथ सोने के दाम में 791 रुपये प्रति 10 ग्राम का उछाल देखने को मिलेगा। इसके बाद अब 10 ग्राम सोने का नया भाव 51,717 रुपये पर पहुंच गया है। इसके पहले गुरुवार को सोने का भाव 50,926 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। अंतरराष्ट्रीय बाजार की बात करें तो यहां भी आज सोने का भाव 1,950 डॉलर प्रति औंस पर है। सोने के साथसाथ चांदी के दाम में भी तेजी देखने को मिली रही है। आज दिल्ली सर्राफा बाजार में चांदी का दाम 2,147 रुपये की बड़ी छलांग के साथ 64,578 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गया है। इसके पहले दिन चांदी का भाव 62,431 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुआ था। अंतरराष्ट्रीय बाजार में चांदी का भाव 2544 डॉलर प्रति औंस पर है। दिल्ली सर्राफा बाजार में दोनों कीमती धातुओं के भाव के बारे में जानकारी देते हुए एचडीएफसी सिक्योरिटीज के सीनियर एनलिस्ट (कमोडिटीज) तपन पटेल ने बताया कि प्रोत्साहन पैकेज की उम्मीद में आज सर्राफा बाजार में तेजी देखने को मिली है। साथ ही अं तरराष्ट्रीय बाजार में भी तेजी का असर देखने को मिला। कोरोना के बढ़ते मामले और अनिश्चितता सोने की कीमतों बढ़ोतरी का कारण बन सकते हैं। ऐसे में केंद्रीय बैंक भविष्य को ध्यान में रखते हुए ज्यादा से ज्यादा सोने की खरीददारी कर रहे हैं। इधर, अमेरिकाचीन व्यापार तनाव और भारतचीन सीमा गतिरोध इस माहौल में केवल अनिश्चितताओं को बढ़ा रहे हैं। वहीं, अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने संकेत दिया कि ब्याज दरों को 2023 तक शून्य के पास रखा जाएगा। निवेशकों को सोने में निवेश करने से पहले यह जरूर जान लेना चाहिए कि यह एक लंबी अवधि के लिए उपाया है, जिसे अल्पकालिक लाभ के लिए नहीं खरीदा जाना चाहिए। क्योंकि पिछले 15 वर्षों में यह लगभग 7,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर से बढ़ रहा है। ऐसे में निवेशकों को अपने सोने के पोर्टफोलियो में 5-10 फीसदी के बीच कहीं भी निवेश करना चाहिए। दिवाली के बावजूद, निवेशकों को मासिक या त्रैमासिक आधार पर समयसमय पर सोने में निवेश करते रहना चाहिए। किसी को भी सोने में एकमुश्त निवेश करने से बचना चाहिए।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.