इस बार की क्वाड मीटिंग में चीन को घेरने की तैयारी ।

क्‍यो में जारी क्‍वाड की बैठक कुछ ही दिन पहले योशिहिदे सुगा ने प्रधानमंत्री पद हासिल किया है। नए जापानी प्रधानमंत्री और पुराने पीएम शिनजो आबे की चीन नीतियों में कोई बदलाव नहीं आया है।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : भारत-चीन के बीच चरम तनाव के हालात में जापान की राजधानी टोक्यो में क्वाड मीटिंग शुरू हो गयी है। इस बैठक में मेजबान जापान के अलावा भारत, आस्ट्रेलिया और अमेरिका के विदेश मंत्री भाग ले रहे हैं। दो दिवसीय ये बैठक चीन के इर्दगिर्द हो रही है। इस बैठक से पहले ही चीन के तेवर देखने वाले हैं। चीन पहले ही कह चुका है कि क्‍वाड के जरिए सभी चार देश उसको घेरने का प्रयास कर रहे हैं जबकि वो किसी भी देश के खिलाफ नहीं है। इस बैठक में इन देशों के बीच आपसी सामरिक और सैन्य साझेदारी बढ़ाने के साथ साथ इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में सहयोग को और पुख्ता करने के मसलों पर चर्चा और चिंतन-मंथन होना है। कोरोना काल के बीच ये वन टू वन टॉक वाली पहली बैठक हो रही है।
क्‍वाड के इतिहास की तरफ झांके तो पता चलता है कि पहले इसके इस स्‍वरूप की तरफ कोई विचार नहीं किया गया था। इसकी शुरुआत में मालाबार युद्ध अभ्यास इसका एक अहम हिस्सा था। उस वक्‍त इसके सदस्‍य देशों के बीच विदेश मंत्री स्‍तरीय बातचीत का विचार नहीं किया गया था। टोक्‍यो में जारी क्‍वाड की बैठक कुछ ही दिन पहले योशिहिदे सुगा ने प्रधानमंत्री पद हासिल किया है। नए जापानी प्रधानमंत्री और पुराने पीएम शिनजो आबे की चीन नीतियों में कोई बदलाव नहीं आया है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.