कोविड-19 से लड़ने के लिए ये है असरदर दवाई

विश्व में कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी अब भी जारी है।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ):विश्व में कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी अब भी जारी है। आँकड़ों की माने तो अब तक कुल  3.25 करोड़ लोग कोविड-19 महामारी से संक्रमित हो चुके हैं और मौतों का आंकड़ा 10 लाख के क़रीब पहुंच चुका है। इस महामारी की फिलहाल दवा और वैक्सीन बनाने की कोशिश तेजी से जारी है। ऐसे वक्त में हमारे वैज्ञानिक उपलब्ध दवाओं और अन्य उपायों के जरिये इससे मुकाबले में जुटे हैं। अभी तक यही हमारे लिए सबसे बड़ी उम्मीद बने हुए हैं।

मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज: ठीक होने वाले मरीजों के प्लाज्मा से कोविड-19 मामलों को नियंत्रित किया जा सकता है, लेकिन यह अन्य रोगों के लिए भी एंटीबॉडी का निर्माण करता है। मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज का लक्ष्य वायरस को कोशिकाओं में घुसने से रोकना है। साथ ही कम गंभीर मामलों को अधिक गंभीर होने से रोकता है। अमेरिका में क्लीनिकल ट्रायल के दौरान इसके बेहतर परिणाम मिले हैं और इसके अन्य ट्रायल्स अभी जारी हैं
एमके-4482: मर्क की एंटी-वायरल दवा वास्तव में फ्लू के लिए थी। हालांकि पशुओं पर होने वाले ट्रायल के दौरान इसने कोरोना वायरस को कोशिकाओं में प्रतिकृति बनाने से रोका है। अक्टूबर में इसका मानव परीक्षण बड़े पैमाने पर शुरू होगा
रिकांबिनेंट एसीई-2: यह कोरोना वायरस को एक तरह का झांसा देता है, जिसमें शरीर के एसीई-2 प्रोटीन के स्थान पर कोरोना वायरस फंस जाता है। इसे लेकर जो भी बात सामने आई है, वह कोशिका पर प्रयोगों के जरिये ही सामने आई हैं। अभी तक किसी भी तरह के ट्रायल नहीं हुए हैं
ओलिएंडिन: अमेरिकी शोध में सामने आया कि ओलिएंडर पौधे से तैयार यह सत्व कोरोना से संक्रमित बंदर की कोशिकाओं में बहुत कारगर है। यद्यपि अभी तक मानवों में इसके निष्कर्षो के बारे में पता नहीं चला है। इसके साथ ही ओलिएंडर का विषैलापन भी विशेषज्ञों को चिंतित कर रही है
इंटरफेरोंस: कोशिकाएं वायरस के जवाब में इस प्रोटीन का इस्तेमाल करती हैं। शोध में सामने आया है कि सिंथेटिक इंटरफेरोंस कोरोना वायरस को पछाड़ सकता है, जो कि अपने प्राकृतिक उत्पाद के जरिये इसे नष्ट कर सकता है। इसके शुरुआती परिणाम उम्मीद जगाते हैं
इवरमेक्टिन: ऑस्टेलिया में 40 साल पुराने परजीवी कीड़ों के इलाज ने दर्शाया है कि यह कोशिका के नियंत्रित विकास के दौरान प्रक्रिया में कोरोना वायरस से लड़ने में सक्षम है। हालांकि पशुओं और मानव में कोरोना वायरस से लड़ने की क्षमता अभी तक अप्रमाणित है। उत्तर प्रदेश सरकार ने इसे कोविड उपचार का एक हिस्सा बनाया है। आगरा में इसके आशावादी नतीजे सामने आए हैं
डेक्सामेथासोन: यह मध्यम और गंभीर कोविड मामलों में काम आती है। यह एक पुराना और सस्ता स्टेरॉयड है, जो कि इम्युन सिस्टम की अतिरिक्त प्रतिक्रिया को रोकता है। जिसके कारण बीमारी से लोगों की मौत हो जाती है। इस स्टेरॉयड के कारण मौत के मामलों में  बेहद कमी देखने को मिली है ।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.