रघुवंश प्रसाद ने तेजस्वी के चलते एम्स के बिस्तर से ही लालू को भेजा इस्तीफा।

घुवंश प्रसाद अभी दिल्ली एम्स के आईसीयू में भर्ती हैं। वे अपने फेफड़े की बीमारी का इलाज करा रहे हैं।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : राजद में बड़ी उठ पटक दौर जारी है। कद्दावर नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। रघुवंश 32 साल से पार्टी से जुड़े थे और लालू के बेहद करीबी नेताओं में माने जाते हैं। लालू यादव के चारा घोटाला में जेल जाने के बाद से पार्टी की कमान तेजस्वी के हाथ में है। रघुवंश तेजस्वी के कुछ फैसलों और रामा सिंह को राजद में शामिल कराए जाने की कोशिश से नाराज थे। रघुवंश प्रसाद अभी दिल्ली एम्स के आईसीयू में भर्ती हैं। वे अपने फेफड़े की बीमारी का इलाज करा रहे हैं। उन्होंने अस्पताल के बेड से ही राजद प्रमुख लालू यादव को इस्तीफा भेज दिया है। अपने इस्तीफे में उन्होंने लिखा, ‘‘जन नायक कर्पूरी ठाकुर के निधन के बाद 32 साल तक आपके पीठ पीछे खड़ा रहा, लेकिन अब नहीं। पार्टी, नेता, कार्यकर्ता और आमजन का बड़ा स्नेह मिला, मुझे क्षमा करें।’’
तेजस्वी अपने विधानसभा सीट राघोपुर से जीत पक्की करने के लिए वैशाली के बाहुबली नेता रामा सिंह को राजद में शामिल कराना चाहते थे। रामा सिंह मीडिया के सामने इसकी पुष्टि कर चुके थे। इसके बाद रघुवंश प्रसाद ने 23 जून को पार्टी के उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था, लेकिन लालू ने इसे मंजूर नहीं किया था।
लालू ने रघुवंश को मनाने के लिए तेजस्वी को दिल्ली भेजा था, लेकिन वे नहीं माने। रघुवंश और रामा वैशाली जिले से आते हैं। दोनों के बीच राजनीतिक टकराव रहा है। लोकसभा चुनाव में रघुवंश को रामा सिंह के हाथों हार का सामना भी करना पड़ा था।
रघुवंश राजद के बड़े नेता माने जाते हैं। उनके पार्टी छोड़ने का असर विधानसभा चुनाव में दिख सकता है। रघुवंश का असर तेजस्वी यादव के विधानसभा सीट राघोपुर में भी है। उनके पार्टी छोड़ने से तेजस्वी की सीट फंस सकती है। दूसरी ओर रामा सिंह के लिए अब राजद में शामिल होने का रास्ता साफ हो गया है। रामा सिंह विधानसभा चुनाव में तेजस्वी के लिए मददगार साबित हो सकते हैं। विधान सभा चुनाव से पहले राजद को रघुवंश प्रसाद का इस्तीफ़ा बड़ा झटका है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.