अयोध्या: भूमिपूजन पर विदेशों में ‘राम नाम’ की गूंज, टाइम्स स्क्वायर पर भव्य आयोजन

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : अयोध्या में राम मंदिर के शिलान्यास को लेकर सिर्फ भारत में ही नहीं, बल्कि दुनिया के कई देशों में उत्साह का माहौल देखा गया और दूर देश में रहने वाले भारतवंशियों ने इस पर अपने अपने तरीके से खुशी का इजहार किया। पड़ोसी देश नेपाल, श्रीलंका से लेकर जापान, अमेरिका, रूस में इसको लेकर खुशियां मनाई गई। कुछ देशों में हिंदू मंदिरों में खासतौर पर आरती का आयोजन हुआ तो कई देशों में भारतवंशियों ने विशेष प्रार्थनाएं की और जुलूस निकाले। अयोध्या में भूमि पूजन पर अमेरिका में भी ‘राम नाम’ की गूंज सुनाई दी। देशभर के मंदिरों में विशेष प्रार्थना की गईं। वर्षो पुरानी इच्छा पूरी होने पर यहां रह रहे भारतीय-अमेरिकी समुदाय के लोगों ने दीप जलाकर अपनी खुशी व्यक्त की। राम मंदिर की डिजिटल तस्वीरों वाली झांकी भी निकाली गई। भूमि पूजन के शुभ अवसर पर पूरे अमेरिका में वर्चुअल कार्यक्रम आयोजित किए गए। कोरोना संक्रमण के चलते सार्वजनिक आयोजनों की संख्या सीमित रही। न्यूयॉर्क के प्रतिष्ठित टाइम्स स्क्वायर पर भव्य आयोजन किया जा रहा है। यहां विशालकाय पर्दो पर भगवान राम और प्रस्तावित मंदिर की तस्वीरें प्रदर्शित की जा रही हैं। भारतीय समुदाय की एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है कि लोग अपने घरों पूजा-पाठ के अलावा दीप जला रहे हैं। कइयों के लिए तो दीवाली पहले ही आ गई है। यहां भारतीयों का उत्साह चरम पर है। वाशिंगटन में विश्व हिंदू परिषद के सदस्यों ने कैपिटल हिल तक राम मंदिर की डिजिटल तस्वीरों वालों झांकी निकाली। यह झांकी शहर में भी घूमी। इस दौरान जय श्री राम का उद्घोष गूंजता रहा। दूसरे शहरों में भी हिंदू समुदाय के लोगों ने घरों में दीये जलाए। कैलिफोर्निया के सामुदायिक नेता अजय जैन ने भारतीयों, खासकर भगवान राम के भक्तों को बधाई दी। जाफना (श्रीलंका) स्थित मंदिर में पुजारियों ने जिस वक्त राम मंदिर शिलान्यास हुआ उसी वक्त एक पूजा का आयोजन किया। वहां के एक दूसरे शहर त्रिंकोमाली में अरुलमिका लक्ष्मीनारायण मंदिर में शाम को विशेष आरती रखी गई, जिसमें बड़ी संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया। नेपाल की राजधानी काठमांडू स्थित पशुपतिनाथ मंदिर में बुधवार को विशेष रुद्राभिषेक व पूजा का प्रबंधन किया गया।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.