500 सालों बाद आया है यह ऐतिहासिक क्षण, दीए जलाएँ और अखंड रामायण का करे पाठ: CM योगी

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार (अगस्त 3, 2020) को अयोध्या का दौरा कर 5 अगस्त को होने वाले भूमि पूजन कार्यक्रम की तैयारियों का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने कहा कि 500 सालों बाद यह ऐतिहासिक क्षण आया है। इसके अलावा उन्होंने सभी से अपील करते हुए कहा कि इस ऐतिहासिक पल का साक्षी बनने के लिए चार और पाँच अगस्त को अपने घर में मिट्टी के दीए जलाएँ। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि साधु-संत मंदिरों को सजाएँ, दीपोत्सव के आयोजन के साथ अखंड रामायण का पाठ करें। उन्होंने कहा कि उन लोगों को जरूर याद करें जिन्होंने राम मंदिर के लिये स्वयं का बलिदान कर दिया। CM योगी आदित्यनाथ ने कहा, “अयोध्या के साथ-साथ देश और दुनिया के लिए एक ऐतिहासिक क्षण होगा जब प्रधानमंत्री मोदी अयोध्या में लगभग 500 वर्षों की इस परीक्षा के परिणाम के साथ भगवान राम के भव्य मंदिर के निर्माण की आधारशिला रखेंगे। इसके महत्व को समझते हुए, यहाँ अयोध्या में कार्यों का अवलोकन करने के लिए मैं स्वयं आया हूँ।” उन्होंने आगे कहा, “व्यवस्था आदि देखने, निरीक्षण करने के लिए हम यहाँ आए हैं, कहीं भी कोई कोताही न बरती जाए, हम लोगों ने इसके लिए पूरी तत्परता के साथ तैयारी की है। कोविड-19 के प्रोटोकॉल को मजबूती से लागू करने पर प्रशासन का मुख्य फोकस है।” इस बीच अयोध्या जंक्शन रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास और सौंदर्यीकरण का कार्य चल रहा है। अयोध्या रेलवे स्टेशन के विकास का पहला फेज अगले वर्ष जून तक पूरा कर लेने का दावा रेलवे की ओर से किया गया है। एक अधिकारी का कहना है, “लॉकडाउन के कारण काम धीमा हो गया था। अंतिम परिणाम निश्चित रूप से बहुत सुंदर होगा।” उन्होंने भगवान राम की एक तस्वीर की ओर इशारा करते हुए बताया कि चार लोगों ने 7 दिनों के अंदर इस पेंटिंग को बनाया है। श्री रामजन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने भूमि पूजन के लिए भेजे जा रहे निमंत्रण को लेकर कहा, “हमने इकबाल अंसारी और पद्म श्री मोहम्मद शरीफ को शिलान्यास समारोह में आमंत्रित किया है।” बता दें कि साइकिल मिस्त्री से लावारिस लाशों के मसीहा बने मोहम्मद शरीफ को समाजसेवा के क्षेत्र में पद्मश्री से विभूषित किया गया है। उन्होंने बिना भेदभाव किए करीब 3 हजार हिन्दू और 2 हजार से अधिक मुस्लिम लावारिस लाशों का अंतिम संस्कार कर समाज सेवा की एक बड़ी मिसाल पेश की है। शरीफ अब तक एक कब्रिस्तान के पास विषम परिस्थितियों में रह रहे थे। मगर आसरा आवास योजना के अंतर्गत अब उन्हें घर भी मिल गया है। आवास मिलने पर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रति आभार प्रकट करते हुए उन्हें चिरकाल तक स्वस्थ रहने का आशीर्वाद दिया था।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.