हिमाचल : पत्रकारों द्वारा सरकार के ख़िलाफ़ लिखना क्या अपराध है?

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : इन तीन छटे हुए गुंडों पर 16 मामले दर्ज हैं। इन्हें यह नहीं मालूम की प्रदेश में वीरभद्र सरकार नहीं है जो झूठी खबरें छापने पर भी मामले दर्ज नहीं करती थी। भाजपा सरकार है जिससे सवाल पूछना गुंडागर्दी के दायरे में आता है। इन तीनों पत्रकारों ने सरकार के तलवे चाटने की जगह तीखे सवाल कर दिए। बस एक के बाद एक 16 मामले दर्ज कर यह गुंडे घोषित कर दिए। सवाल सिर्फ कांग्रेस से पूछे जाने चाहिए भले ही वो विपक्ष में हो। भाजपा राज में वही पत्रकारिता कर सकता है जो सरकार के झूठे गुणगान कर सके। वाकियों के लिए कानून का डंडा है। जेड़ा खंगया ओ टँगया। महामारी फैली है और तुम सवाल पूछ के महामारी को और बढ़ावा दोगे तो डिसास्टर मैनेजमेंट एक्ट का डंडा तो बनता है। सच्चाई से आंख मूंदकर डिस्टेंसिनग रखनी पड़ेगी भाई। लिखो न तुम भी ” सरकार विश्व गुरु बन रही है, ” जयराम सरकार ने महामारी को भगा दिया है, प्रदेश सरकार विकास के मील पत्थर स्थापित किए जा रही है, करोना के इतने रिजल्ट नेगटिव निकले “। यह तीनों इतनी सी बात नहीं समझ पाए। पहले नम्बर वाले पर सबसे ज्यादा मामले दर्ज हैं। और तो ओर इनका तो कर्फ्यू पास तक रद्द कर के घर बिठा दिया है। इसे सरकारी गुंडागर्दी कहा जाता है। प्रेस का गला घोटना किसी व्यक्ति विशेष का गला घोंटने नहीं होता वल्कि सत्य का ओर लोगों की आज़ादी का गला घोंटने के बराबर अपराध है। सत्य के लिए लड़ने वाले बड़ी कीमती हीरे होते हैं। बंगाल टाइगर की तरह इनकी प्रजाति विलुप्त होने की कगार पर है क्योंकि इनकी संख्या उंगलियों पर गिनने के बराबर है। इन्हें बचाने की जरूरत है क्योंकि जिगर चाहिए सरकार के खिलाफ लिखने बोलने ओर जनता की आवाज़ उठाने के लिए। लोकतंत्र पर जिस किसी ने भी प्रहार किया वो बुरी तरह हारा। हिटलर शाही को सभ्य समाज जूते मारकर औकात दिखाता है। यहां यहां भाजपा सरकारें हैं वहां वहां पत्रकारिता का जनाज़ा निकाल दिया गया है। लोया जैसे जज तक नहीं बक्शे। गुड़िया कांड के समय पत्रकारिता ने नीचता के झंडे गाड़े। हर झूठ और अफवाह को छापा। किसी पर कोई केस दर्ज नहीं हुआ। भाजपा सरकार बनते ही झूठ छापने वाले पत्रकार पद देकर सम्मानित किए गए और वाकियों ने एक चिरानी को गुड़िया के साथ ” गैंग रेप ” करने वाला हत्यारा मान कर अपनी कलम पर ताला लगा लिया। शुक्र है सोशल मीडिया है। वरना सरकार के खिलाफ न कुछ छपे न सवाल पूछे जाएं और जो इतनी हिम्मत करे उस पर केस दर्ज कर दिए जाएं। सरकार सम्भल जाए। हम ऐसी सरकारी गुंडागर्दी नहीं चलने देंगे। ऐसे वक्त में हम इनके साथ खड़े हैं। इनके केस फ्री में लड़ेंगे। ताकि अन्याय के खिलाफ मुहिम कमजोर न पड़े। भाई आप तीनों प्रदेश के लिए राजगुरु भगत सिंह और सुखदेव जैसे क्रांतिकारी हो। आपके जजवे को सलूट। जय हिंद
विनय शर्मा एडवोकेट
हिमाचल हाई कोर्ट शिमला
पूर्व डिप्टी एडवोकेट जनरल
हिमाचल सरकार
8894409800
9459258500

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.