नेपाल की काठमांडू स्थित ‘गुह्येश्वरी देवी’ के रहस्यों पर आई एक किताब।

'कौलान्तक सिद्ध विद्या पीठ' की ओर से 'गुह्येश्वरी देवी' पर यह किताब अंग्रेजी भाषा में "Laghu Ishta Paddhati: Guhyeshwari" '(लघु ईष्ट पद्धति: गुह्येश्वरी) के नाम से प्रकाशित हुई है।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : नेपाल की काठमांडू स्थित ‘गुह्येश्वरी देवी’ के विषय पर ‘कौलान्तक सिद्ध विद्या पीठ’ की ओर से हाल ही में एक किताब का विमोचन सोशल मीडिया के माध्यम से किया गया है। यह किताब काठमांडू के लोगों के विशेष अनुरोध पर प्रकाशित की गई है। ‘कौलान्तक सिद्ध विद्या पीठ’ के प्रवक्ता ने बताया कि ‘महासिद्ध ईशपुत्र’ के ‘गण्डकी नदी’ के विषय पर आए यू-ट्यूब विडियो के बाद नेपाल से कई ई-मेल आए थे। इनमे से अधिकांश ई-मेलों में नेपाल की काठमांडू स्थित ‘गुह्येश्वरी देवी’ के विषय को विस्तार से समझाने का अनुरोध किया गया था। इसके बाद ‘कौलान्तक सिद्ध विद्या पीठ’ की ओर से ‘गुह्येश्वरी देवी’ के विषय पर किताब प्रकाशित करने की परियोजना शुरू की गई थी।
‘कौलान्तक सिद्ध विद्या पीठ’ की ओर से ‘गुह्येश्वरी देवी’ पर यह किताब अंग्रेजी भाषा में “Laghu Ishta Paddhati: Guhyeshwari” (लघु ईष्ट पद्धति: गुह्येश्वरी) के नाम से प्रकाशित हुई है। यह किताब तंत्र की परम्परानुसार ‘कौलान्तक नाथ’ और उनकी शक्ति ‘मां पद्म प्रिया’ के बीच संवाद की पद्धति में लिखी गई है।
इस किताब में ‘गुह्येश्वरी देवी’ से जुड़े ‘गुह्य कुल’, इसकी परम्परा के प्रमुख ‘गुरुओं’ और देवी के ‘दर्शन’ और ‘साधना’ के आधार-भूत सिद्धांतों के बारे में विस्तार से चर्चा की गई है। इन सब के बीच जो सबसे महत्वपूर्ण रहस्योद्घाटन हुआ है वह ‘गुह्येश्वरी देवी’ और ‘ने मुनि’ के बीच सबंध से जुड़ा है।
‘पीठ’ की ओर से बताया गया कि इस किताब को अपेक्षा से कहीं अधिक सराहना मिली है। इस किताब को दुनिया भर से लोगों ने डाउनलोड कर पढ़ा है। नेपाल से आने वाले ई-मेलों की बाढ़ लग गई है जिनमें सभी प्रकार के जाति, धर्म, सम्प्रदाय के लोगों ने मुख्यतः ‘ने मुनि’ के बारे में और अधिक जानने जिज्ञासा प्रकट की है। इसके साथ ही जिज्ञासुओं के विशेष अनुरोध को देखते हुए ‘पीठ’ ने ‘ने मुनि’ पर भी जल्द ही किताब प्रकशित करने की इच्छा प्रकट की है।

यह किताब www.kaulantakpeeth.com से डाउनलोड की जा सकती है।
‘न्यूज़ लाइव नाऊ’ आपको ‘ने मुनि’ पर आने वाली किताब के विषय में भविष्य में अवगत कराता रहेगा।

 

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.