Coronavirus: चीन में 1500 तक पहुंचा मौत का आंकड़ा, 5000 से ज्यादा नए मामले

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : चीन में कोरोनावायरस से अब तक 1491 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 63,837 लोगों में संक्रमण कीपुष्टि हो चुकी है। चीन के बाहर सबसे ज्यादा मामले सिंगापुर (58) में सामने आए हैं। केरल में संक्रमित 3 व्यक्तियों में से 2 की हालत में सुधार है। सबसे ज्यादा प्रभावित हुबेई में अब भी 80-100 भारतीयों के फंसे होने की आशंका है। जापान में क्रूज पर भी 160 में से 2 भारतीय संक्रमित हैं। केरल के स्वास्थ्य अधिकारियों ने गुरुवार को बताया- केरल में संक्रमित 3 लोगों में से दो मेडिकल छात्रों की स्थिति बेहतर हुई है। बाद में उनकी रिपोर्ट की जांच की गई, जो निगेटिव आई है। इसके बाद अलापुझा मेडिकल स्टूडेंट को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। इससे पहले त्रिशूर में मेडिकल स्टूडेंट की रिपोर्ट भी निगेटिव आई थी। केरल की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने बताया- छात्रा की सैंपल की रिपोर्ट देखे जानेके बाद ही उसे अस्पताल से छुट्टी दी गई। उसकी स्थिति अब संतोषजनक है। उसकी निगरानी अबघर पर ही की जाएगी। उन्होंने कहा- केरल में 2397 व्यक्ति निगरानीमें हैं। इसमें 2375 व्यक्तियों की उनके घरों में और 22 की अस्पतालों में निगरानी की जा रही है। 402 संदिग्धों की सैंपल जांच के लिए नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वाइरोलॉजी (एनआईवी) में भेजा गया है। इनमें 363 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। बाकि के रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक-घरों में निगरानी रखे जा रहे 122 लोगों को भी छुट्टी दे दी गई है। पिछले दिनों 1040 व्यक्तियों को निगरानी से बाहर रखा गया था। लेकिन स्वास्थ्य विभाग सतर्क बना हुआ है। चीन से आने वाले यात्रियों को 28 दिनों तक सार्वजनिक जगहों पर नहीं जाने की सलाह दी गई है। वुहान शहर में 800 से ज्यादा पाकिस्तानी छात्र फंसे हुए हैं।उन्होंने सरकार से यहां से निकालने की अपील की है। छात्रों ने कहा कि वे मानसिक यातना से गुजर रहे हैं। 2015 से वुहान में मेडिकल की पढ़ाई कर रहे रेहान रशीद ने पाकिस्तान सरकार और प्रधानमंत्री इमरान खान की आलोचना करते हुए कहा कि शहर को लॉकडाउन किए जाने के बाद पाकिस्तान सरकार ने छात्रों को निकालने से इनकार कर दिया। ‘गार्जियन’ के मुताबिक, चीन से फोन पर बात करते हुए छात्र रशीदने कहा- यहां हमारी कोई मदद नहीं की जा रही हा। हम डरे हुए हैं। यह एक डरावनी स्थिति है। हम 20 दिनों से ज्यादा समय से हॉस्टल के कमरे में कैद हैं। खाना या अन्य जरूरी चीजों के लिए भी बाहर नहीं निकलने दिया जा रहा। इससे पहले भी जब भारत ने अपने लोगों को वुहान से निकाला था, तब पाकिस्तान के छात्रों ने एक वीडियो जारी कर अपने सरकार से निकालने की बात कही थी। पाकिस्तान सरकार के अधिकारियों ने छात्रों से शांति बनाए रखने की अपील कीहै। पाकिस्तानी छात्रों के माता-पिता और रिश्तेदारइस्लामाबाद में अपने बच्चों को वहां से निकालने की मांग को लेकर प्रदर्शन भी कर रहे हैं। चीनी वैज्ञानिकों ने कोरोनावायरस (कोविड-19) की चपेट में आए औरबाद में ठीक हो गए मरीजों से प्रोटो प्लाजा जैविक तत्व विकसित किया है। इसका इस्तेमाल कोराेनावायरस के मरीजों के उपचार में व्यापक तौर पर किया जाएगा। चाइना नेशनल बायोटेक ग्रुप कंपनी के वैज्ञानिकों ने इसे विकसित किया है। जो मरीज इस विषाणु से संक्रमित हुए थे उनके शरीर से इसे निकाला गया है। इसका इस्तेमाल कन्वलसेंट प्लाज्मा और इम्युनोग्लोबिन को बनाने में किया जाएगा। वैज्ञानिकों के अनुसार, वुहान के जियांगजिया जिले में आठ फरवरी को गंभीर रूप से बीमार तीन मरीजों को प्लाज्मा उपचार दिया गया। इस समय 10 से ज्यादा गंभीर मरीजों को प्लाज्मा उपचार दिया गया है। जांच में पता चला है कि इसे लेने के 12 से 24 घंटों के बाद मरीजों में काफी सुधार के लक्षण दिखे हैं। उनमें संक्रमण के कारकों में कमी और ब्लड में घुलनशील ऑक्सीजन के स्तर में भी काफी सुधार देखने को मिला है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com