हिंदू छात्रा नम्रता की मौत की शुरू हुई न्यायिक जांच, भाई और पिता को भी समन

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : पाकिस्तान के सिंध प्रांत में हिंदू छात्रा नमृता कुमारी की मौत के मामले में न्यायिक जांच शुरू हो गई है। प्रांतीय सरकार की अपील पर हाई कोर्ट ने न्यायिक जांच की अनुमति दी थी। न्यायिक समिति ने नमृता के साथ पढ़ने वाले छात्रों, हॉस्टल वार्डन के अलावा मामले से संबंधित अन्य सभी लोगों को नोटिस जारी किया है। नमृता के भाई और पिता को भी समन जारी किया गया है। शहीद मोहतरमा बेनजीर भुट्टो मेडिकल यूनिवर्सिटी के अंतर्गत आने वाले बीबी आसिफा डेंटल कॉलेज से पढ़ाई कर रहीं नमृता 16 सितंबर को हॉस्टल के कमरे में मृत मिलीं थीं। यूनिवर्सिटी इसे आत्महत्या बता रही है। पोस्टमार्टम की प्रारंभिक रिपोर्ट भी इसे आत्महत्या बता रही है। लेकिन नमृता के भाई का कहना है कि उनकी हत्या हुई थी। पुलिस ने इस संबंध में उनके साथ पढ़ने वाले दो लोगों को गिरफ्तार भी किया है। इनमें से एक मेहरान अबरू का कहना है कि नमृता उनसे शादी करना चाहती थी, लेकिन उसने मना कर दिया था। कई लोग इसे जबरन धर्मातरण का मामला भी बता रहे हैं। बता दें कि इससे पहले पाकिस्तान की एक अदालत के जज ने मेडिकल की छात्रा नमृता कुमारी की हत्या की न्यायिक जांच करने से इनकार कर दिया था। हालांकि, इसके बाद पाकिस्तान में जमकर विरोध प्रदर्शन हुआ। दबाव में आकर सरकार ने मामले की न्यायिक जांच के आदेश दिए। मामले में नमृता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर भी लगातार सवाल उठ रहा है। कराची स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ने रिपोर्ट पर सवाल उठाते हुए कहा कि भले ही पोस्टमार्टम रिपोर्ट में आत्महत्या की बात सामने आई है, लेकिन गले पर बने निशान से साफ जाहिर होता है कि ये मामला हत्या का है। पाकिस्तान के सिंध प्रांत में हिंदू लड़कियों के अपहरण और जबरन धर्म परिवर्तन की खबरे सामने आती रही है। हिंदुओँ के खिलाफ बढ़ते अपराध का मामला सड़क से संसद तक उठ चुका है। इससे पहले पाकिस्तान में सिख लड़की को अगवा कर शादी के लिए मजबूर किया गया था। खबर के सामने आने के भारी दबाव के बाद लड़की को उसके माता-पिता को सौंप दिया गया था।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.