हिमाचल: “किन्नर कैलाश” यात्रा पर बिना अनुमति गए 5 श्रद्धालु, 2 की मौत

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : किन्नौर जिला में बिना अनुमति के किन्नर कैलाश यात्रा पर गए 5 श्रद्धालुओं में से पार्वती कुंड नामक स्थान पर 2 की मौत हो गई है जबकि 3 को रेस्क्यू कर लिया गया है। मृतकों की पहचान पीयूष 35 वर्ष पुत्र ज्ञान निवासी बड़ागांव कुमारसैन जिला शिमला तथा वरुण सिंह 25 वर्ष पुत्र कमलजीत निवासी सुभाष नगर हरियाणा के रूप में हुई है, जबकि अन्य में अभय राणा 23 वर्ष पुत्र कर्ण सिंह निवासी बड़ागांव कुमारसैन, अनिल वर्मा 23 वर्ष पुत्र राजेंद्र कुमार निवासी बड़ागांव कुमारसैन जिला शिमला तथा अंशुल जसवाल 21 वर्ष पुत्र रणवीर निवासी बड़ागांव कुमारसैन जिला शिमला हैं, जोकि ठीक है तथा रेस्क्यू टीम द्वारा उनको रिकांगपिओ लाया जा रहा है, जिनके देर शाम तक पहुंचने की संभावना है। जानकारी के अनुसार जिला प्रशासन को उक्त श्रद्धालुओं के होने की सूचना मिली जिस पर प्रशासन ने घटनास्थल के लिए बुधवाार सुबह ही रेस्क्यू टीम रवाना की तथा गृह रक्षा प्रथम बहानी के कंपनी कमांडर सुखदेव नेगी की अगुवाई ने 14 सदस्यों की आपदा प्रबंधन की 14 सदस्यों की टीम लगभग 7-8 घंटे की कड़ी मश्क्कत के बाद घटना स्थल पर पहुंची तथा शवों को अपने कब्जे में लिया। विदित है कि जिला प्रशासन द्वारा अधिकारिक तौर पर 1 से 11 अगस्त तक किन्नर कैलाश यात्रा के लिए अनुमति दी जाती है, परंतु कुछ लोग बिना अनुमति तथा अपनी जान जोखिम में डालकर यात्रा के लिए चले जाते है, जिससे अक्सर ऐसी घटनाएं होती रहती है। यही नहीं इससे पहले भी वर्ष 2018 में किन्नर कैलाश यात्रा पर गए 3 श्रद्धालुओं की बाढ़ की चपेट में आने से मौत हो गई थी, जबकि एक अन्य श्रद्धालु की भी मौत हो गई थी। जिला किन्नौर में सोमवार शाम को भारी बारिश व किन्नर कैलाश की पहाडिय़ों पर बर्फबारी हुई थी, परंतु खराब मौसम के चलते भी उक्त श्रद्धालु किन्नर कैलाश की यात्रा पर चले गए, जिससे किन्नर कैलाश पहाड़ियों पर बर्फबारी तथा ठंड होने के कारण श्रद्धालु रास्ता भटक गए तथा दो की मौत हो गई। एस.डी.एम. कल्पा सुरेंद्र ठाकुर ने बताया कि प्रशासन द्वारा किन्नर कैलाश की यात्रा 1 अगस्त से 11 अगस्त तक शुरू की जाती है, परंतु कुछ श्रद्धालु बिना अनुमति के ही किन्नर कैलाश यात्रा पर चले जाते है। उन्होंने श्रद्धालुओं से आह्वान करते हुए कहा है कि खराब मौसम में यात्रा पर न जाएं तथा जब प्रशासन द्वारा यात्रा शुरू की जाती है, उसी दौरान ही यात्रा करें।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.