भारत करेगा पहला ‘अंतरिक्ष युद्धाभ्यास’ आयोजित, चीन को टक्कर देने की तैयारी

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : भारत ने वर्ष के मार्च महीने में एंटी-सैटेलाइट (A-Sat) मिसाइल का मार्च में सफलतापूर्वक परीक्षण किया था और हाल ही में उसने ट्राई सर्विस डिफेंस स्पेस एजेंसी की शुरुआत भी की है। अब भारत अगले महीने पहली बार सिमुलेटेड अंतरिक्ष युद्ध अभ्यास करने की योजना बना रहा है। इसका नाम ‘IndSpaceEx’ दिया गया है। यह अभ्यास मूल रूप से एक ‘टेबल-टॉप वॉर-गेम’ होगा, जिसमें सैन्य और वैज्ञानिक समुदाय के सभी हितधारक हिस्सा लेंगे, लेकिन यह उस गंभीरता को रेखांकित करता है, जिसके साथ भारत चीन जैसे देशों से अपनी अंतरिक्ष संपत्ति के लिए संभावित खतरों का मुकाबला करने की आवश्यकता पर विचार कर रहा है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस बारे में कहा, ‘अंतरिक्ष का सैन्यकरण हो रहा है, साथ ही साथ प्रतिस्पर्धा भी। रक्षा मंत्रालय के एकीकृत रक्षा कर्मचारियों के तत्वावधान में जुलाई के अंतिम सप्ताह में आयोजित होने वाले अभ्यास का मुख्य उद्देश्य भारत द्वारा सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक अंतरिक्ष और काउंटर-स्पेस क्षमताओं का आकलन करना है। इससे हमारा राष्ट्रीय सुरक्षा का आकलन भी होगा। एक अन्य अधिकारी ने कहा, ‘भारत को स्पेस में विरोधियों पर निगरानी, संचार, मिसाइल की पूर्व चेतावनी, सटीक-लक्ष्यीकरण जैसी चीजों की आवश्यकता है। इसे हमारा सशस्त्र बल की विश्वसनीयता बढ़ेगी और राष्ट्रीय सुरक्षा भी मजबूत होगी। ऐसे में IndSpaceEx हमें अंतरिक्ष में रणनीतिक चुनौतियों को बेहतर ढंग से समझने में मदद करेगा, जिन्हें संभालने की आवश्यकता है।’ चीन ने जनवरी 2007 में एक मौसम उपग्रह के खिलाफ A-Sat मिसाइल का परीक्षण करने के बाद, दोनों गतिज (प्रत्यक्ष चढ़ाई मिसाइलों, सह-कक्षीय मार उपग्रहों) के साथ-साथ गैर-गतिज के रूप में अंतरिक्ष में सैन्य क्षमताओं को विकसित किया है। चीन ने अंतरिक्ष में अमेरिका के वर्चस्व को खतरे में डालने वाले अपने महत्वाकांक्षी कार्यक्रम (समंदर में एक जहाज से 7 सैटेलाइट लॉन्च किया) को तीन दिन पहले ही लॉन्च किया है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com