भोपाल से दिग्विजय सिंह के ख़िलाफ़ BJP से चुनाव लड़ेंगी साध्वी प्रज्ञा।

गौरतलब है कि भाजपा के वरिष्ठ नेता शिवराज सिंह चौहान, राम लाल और प्रभात झा से मुलाकात करने के बाद साध्वी प्रज्ञा भाजपा में शामिल हो गई हैं। पार्टी में शामिल होने के बाद साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि मैं आधिकारिक तौर पर भाजपा में शामिल हो गई हूं।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : मध्यप्रदेश की चुनावी जंग में बेहद ही दिलचस्प और नया मोड़ आया है। साध्वी प्रज्ञा भाजपा में शामिल हो गई हैं और पार्टी ने उन्हें पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ भोपाल सीट से चुनावी मैदान में उतारा है। इसी बीच दिग्विजय सिंह ने भी साध्वी प्रज्ञा के लिए एक संदेश शेयर किया है। दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर लिखा कि मैं साध्वी प्रज्ञा जी का भोपाल में स्वागत करता हूं। आशा करता हूं कि इस रमणीय शहर का शांत, शिक्षित और सभ्य वातावरण साध्वी जी को पसंद आएगा। मैं मां नर्मदा से साध्वी जी के लिए प्रार्थना करता हूँ और नर्मदा जी से आशीर्वाद माँगता हूँ कि हम सब सत्य, अहिंसा और धर्म की राह पर चल सकें। नर्मदे हर! बता दें कि पार्टी ने बुधवार को मध्यप्रदेश से चार उम्मीदवारों के नाम की घोषणा की है पार्टी ने भोपाल सीट से साध्वी प्रज्ञा, गुना सीट से के पी यादव, सागर से राज बहादुर सिंह, विदिशा से श्री रमाकांत भार्गव को टिकट दिया है। साध्वी प्रज्ञा ने टिकट मिलने के बाद कहा कि हम तैयार हैं और अब उसी कार्य में लग गई हूं। गौरतलब है कि भाजपा के वरिष्ठ नेता शिवराज सिंह चौहान, राम लाल और प्रभात झा से मुलाकात करने के बाद साध्वी प्रज्ञा भाजपा में शामिल हो गई हैं। पार्टी में शामिल होने के बाद साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि मैं आधिकारिक तौर पर भाजपा में शामिल हो गई हूं। साथ ही उन्होंने कहा कि मैं चुनाव लडूंगी भी और जीतूंगा भी। बता दें कि भोपाल लोकसभा सीट पर 12 मई को मतदान किया जाएगा। भोपाल सीट को भाजपा का गढ़ माना जाता है। 2014 लोकसभा चुनाव के दौरान भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार आलोक सांजर ने 7.14 लाख वोट अपने नाम किए थे। जबकि कांग्रेस प्रत्याशी पी.सी. शर्मा को महज 3.43 लाख वोट ही मिले थे। इस बार कांग्रेस ने इस सीट से पार्टी के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह को चुनावी मैदान में उतरा है। जानकारी के लिए बता दें कि साध्वी प्रज्ञा मालेगांव ब्लास्ट के बाद से चर्चा में आईं थी। दरअसल, 29 सितंबर, 2008 को मालेगांव में एक मस्जिद के बाहर एक मोटर साइकिल में धमाका हुआ। इसमें छह लोगों की मौत हुई थी और 100 घायल हुए थे। साध्वी प्रज्ञा भारती 2007 के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रचारक सुनील जोशी हत्याकांड में भी आरोपित थीं। हालांकि, कोर्ट ने उन्हें सभी आरोपों से बरी कर दिया। इतिहास में स्नातकोत्तर उपाधि लेने के साथ अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) में भी प्रज्ञा सक्रिय सदस्य रह चुकी हैं। उनका रुझान शुरू से ही राष्ट्रवादी संगठनों की तरफ रहा।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com