किंगफिशर जैसे ही जेट एयरवेज भी पहुंची डूबने के कगार पर

फंडिंग क्राइसिस के कारण जेट एयरवेज अब महज सात जहाज ही उड़ा पा रही है क्योंकि वह रोजाना बमुश्किल इन्हीं जहाजों के तेल के खर्चे उठा पा रही है

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : किंगफिशर एयरलाइंस की तरह ही जेट एयरवेज के सामने भी बंद होने का खतरा मंडरा रहा है। ऐसा लग रहा है कि नरेश गोयल स्थापित कंपनी जल्द ही विजय माल्या की किंगफिशर एयरलाइंस की तरह बंद होने वाली है क्योंकि जेट में हिस्सेदारी की बिक्री के प्रयासों पर पानी फिरता दिख रहा है। दरअसल, कथित तौर पर नरेश गोयल का प्रतिनिधित्व करने वाली तीन कंपनियों के समूह ने बोली प्रक्रिया से हाथ खींच लिया है। इससे पहले, एतिहाद एयरवेज और टीपीजी कैपिटल ने साफ-साफ चेतावनी दे दी थी कि अगर गोयल जेट एयरवेज से नहीं हटेंगे तो वे बोली प्रक्रिया से बाहर निकल जाएंगी।इस बीच जेट मैनेजमेंट ने अपने बोर्ड के सामने कंपनी का संचालन पूरी तरह बंद करने का प्रस्ताव रखा है क्योंकि कंपनी को कर्ज देने वाले बैंकों की ओर से अब फंडिंग मिलने की कोई उम्मीद नहीं बची है। फंडिंग क्राइसिस के कारण जेट एयरवेज अब महज सात जहाज ही उड़ा पा रही है क्योंकि वह रोजाना बमुश्किल इन्हीं जहाजों के तेल के खर्चे उठा पा रही है। आज बोर्ड मीटिंग में हुई बातचीत से वाकिफ एक व्यक्ति ने कहा, ‘जेट अपने ग्राहकों को ठगना नहीं चाहता है और न ही उन्हें इस भ्रम में रखना चाहता है कि कंपनी अब भी संचालन में है। अब उड़ानों की बात करना मजाक है।’

नरेश गोयल की जनरल सेल्स एजेंसी जेटएयर ने एक अमेरिकी कंपनी फ्यूचर ट्रेंड कैपिटल और लंदन की कंपनी ऐडि पार्टनर्स की मदद से जेट की खरीददारी में अपनी दिलचस्पी दिखाई और शुक्रवार को शाम 6:08 बजे एक्स्प्रेशन ऑफ इंट्रेस्ट (EOI) जमा किया जबकि EOI जमा करने की मियाद शुक्रवार शाम 6 बजे तक ही थी। ध्यान रहे कि जेट एयर से ही जेट एयरवेज का जन्म हुआ था।आज एसबीआई कैप्स को उचित बोली लगाने वाले का चयन करना है। एतिहाद, टीपीजी और इंडिगो कैपटिल आदि एक्सप्रेसन ऑफ इंट्रेस्ट जमा करने वालों में शामिल हैं। उम्मीद की जा रही है कि सरकारी संस्थान नैशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर ऐंड इन्वेस्टमेंट फंड सीधे बोली लगाएगा। जेटएयर के एक टॉप एग्जिक्युटिव में ईटी के ईमेल का जवाब नहीं दिया। वहीं टीपीजी ने भी प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया, जबकि एतिहाद के प्रवक्ता ने कहा कि एयरलाइन अफवाहों और अनुमानों पर कुछ नहीं बोलेगी।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com