कनाडा द्वारा रिपोर्ट से ‘सिख कट्टरपंथ’ हटाने पर कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किया विरोध।

अमरिंदर सिंह ने कहा, 'यह लिबरल पार्टी का एक ढीला फैसला है जिसका उद्देश्य चुनावी साल में स्वार्थ साधना है। बाद में भारत और कनाडा के संबंध इस फैसले की वजह से खराब होंगे। उन्होंने कहा कि दुनिया किसी भी तरह के कट्टरवाद को बर्दाश्त नहीं कर सकती है।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : कनाडा सरकार द्वारा आतंकवाद पर अपनी 2018 की रिपोर्ट में से सिख कट्टरपंथ के संदर्भ को हटाने पर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने विरोध जताया है। इससे पहले सरकार ने देश के लिए शीर्ष पांच आतंकवादी खतरों में से एक के तौर पर सिख कट्टरपंथ का उल्लेख किया था। अमरिंदर सिंह का कहना है कि सरकार अपने राजनीतिक स्वार्थ को साधने के लिए ऐसा कर रही है। टोरंटो के सीबीसी न्यूज ने समाचार एजेंसी ‘द कनेडियन प्रेस’ के हवाले से खबर दी है कि ‘2018 रिपोर्ट ऑन टेररिजम थ्रेट टू कनाडा’ का ताजा संस्करण शुक्रवार को जारी किया गया। अमरिंदर सिंह ने ट्रूडो प्रशासन के फैसले का विरोध करते हुए कहा है कि घरेलू राजनीति के दबाव में यह फैसला किया गया है। उन्होंने कहा, ‘यह लिबरल पार्टी का एक ढीला फैसला है जिसका उद्देश्य चुनावी साल में स्वार्थ साधना है। बाद में भारत और कनाडा के संबंध इस फैसले की वजह से खराब होंगे।’ उन्होंने कहा कि दुनिया किसी भी तरह के कट्टरवाद को बर्दाश्त नहीं कर सकती है। अमरिंदर सिंह ने कहा कि उन्होंने कनाडा को सबूत भी दिए थे कि किस तरह से उनकी धरती का इस्तेमाल खालिस्तानी सोच को बढ़ावा देने के लिए किया जा रहा है। सिंह ने 9 कट्टरपंथियों की सूची भी कनाडा के प्रधानमंत्री को दी थी। बता दें कि कनाडा सरकार की इस रिपोर्ट में धर्म के किसी उल्लेख को हटाने के लिए भाषा में बदलाव किया गया है और इसमें उन चरमपंथियों से खतरे पर चर्चा की गई है जो हिंसक तरीकों से भारत के अंदर एक स्वतंत्र राज्य बनाना चाहते हैं। सीबीसी न्यूज ने खबर दी है कि आतंकवाद पर 2018 की रिपोर्ट को पिछले साल दिसंबर में जारी किया गया था। उस वक्त सिख समुदाय ने इसका तीखा विरोध किया था क्योंकि रिपोर्ट में पहली बार कनाडा में शीर्ष कट्टरपंथी खतरों में से एक के तौर पर सिख चरमपंथ को सूचित किया गया था। जन सुरक्षा मंत्री राल्फ गूडले ने कहा था कि वह रिपोर्ट में इस्तेमाल हुई भाषा की समीक्षा के लिए कहेंगे। प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने शनिवार को अल्पसंख्यक सिख समुदाय की तारीफ की थी। वह बैसाखी के मौके पर एक गुरुद्वारे गए थे। उन्होंने समानता और सामाजिक न्याय के मूल्यों के लिए सिख समुदाय की तारीफ की थी।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com