रिपोर्ट निराधार, भारत एम्राम मिसाइल के टुकड़े बतौर सबूत पेश कर चुका – F 16 विवाद पर रक्षा मंत्री

गुरुवार को मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि 27 फरवरी को भारत-पाक की वायुसेना के आमने-सामने आने के बाद अमेरिका ने एफ-16 विमानों की गिनती की है, जिसमें एक भी विमान कम नहीं निकला।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : पाक एफ-16 विमानों की गिनती की रिपोर्ट को लेकर विवाद हो गया है। भारत की रक्षा मंत्री ने रिपोर्ट को निराधार बताते हुए कहा कि भारत ने पहले ही पाक के एफ-16 में इस्तेमाल की जाने वाली एम्राम मिसाइल के टुकड़े को बतौर सबूत पेश कर चुका है। इससे पहले अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन ने कहा कि हमें ऐसी किसी जांच के बारे में कोई जानकारी नहीं, जिसमें पाकिस्तान के एफ-16 विमानों की गिनती की गई। गुरुवार को मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि 27 फरवरी को भारत-पाक की वायुसेना के आमने-सामने आने के बाद अमेरिका ने एफ-16 विमानों की गिनती की है, जिसमें एक भी विमान कम नहीं निकला।बालाकोट में 24 फरवरी को भारतीय वायुसेना ने आतंकी ठिकानों पर कार्रवाई की थी। इसके बाद पाकिस्तानी वायुसेना के विमान 27 फरवरी को भारतीय सीमा में घुसे थे। जवाबी कार्रवाई में भारत ने पाक का एफ-16 विमान मार गिराया था। हालांकि पाक सेना का दावा है कि उसके एक भी विमान को कोई नुकसान नहीं पहुंचा।

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने अमेरिकी मैगजीन की रिपोर्ट पर कहा, ”भारतीय वायुसेना ने एफ-16 के इलेक्ट्रॉनिक सिग्नेचर बतौर सबूत पेश किए हैं। ऐसे में जिस किसी ने भी यह रिपोर्ट लिखी है, वह निराधार है। एम्राम मिसाइल केवल एफ-16 विमानों में इस्तेमाल की जाती है। उसका एक टुकड़ा भारत में कैसे मिला?”सीतारमण ने कहा, ”फॉरेन पॉलिसी मैगजीन में आए लेख को कई लोग आधारहीन बता रहे हैं। किसी ने सोशल मीडिया पर मुझे इसके बारे में बताया कि अब तो अमेरिकी अधिकारी भी कह रहे हैं कि हमने ऐसी कोई जांच नहीं की है। कई लोग हैं जो गलत सूचना फैला रहे हैं। यह दुखद है कि हमारे ही देश के कुछ लोग जिसमें कांग्रेस पार्टी के लोग भी शामिल हैं जो सुरक्षाबलों पर उंगली उठा रहे हैं।”विदेश नीति पर आधारित मैगजीन ने गुरुवार को बताया था कि यूएस सुरक्षा विभाग के अधिकारी ने व्यक्तिगत तौर पर पाकिस्तान के एफ-16 विमानों की गिनती की थी। इस दौरान सभी विमान सुरक्षित पाए गए। कोई भी खोया नहीं था। अधिकारियों का यह भी कहना था कि विमानों की गिनती पाकिस्तान के निमंत्रण पर की गई थी। यूएस सुरक्षा विभाग के प्रवक्ता ने कहा, ”हमें इस तरह की किसी जांच के बारे में कोई जानकारी नहीं है।” जहां तक उस रिपोर्ट में कही गई बात का सवाल है तो वह किसी अज्ञात सुरक्षा अधिकारी के हवाले से कही गई है।भारत की तीनों सेनाओं ने 28 फरवरी को संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेस की थी। इस दौरान सेना ने पाकिस्तानी वायुसेना द्वारा भारतीय सीमा में एफ-16 विमान से हमला करने के सबूत पेश किए। वायुसेना के एयर वाइस मार्शल आरजीके कपूर ने कहा कि पाकिस्तान ने सैन्य ठिकानों को निशाना बनाने के लिए एम्राम मिसाइल का इस्तेमाल किया, इसे केवल पाकिस्तान में मौजूद एफ-16 विमान ही दाग सकता है। आर्मी ने एम्राम मिसाइल के टुकड़े भी दिखाए थे।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com