हिमाचल: विजिलेंस को 10 लाख रुपये की रिश्वत देने के आरोप में RTO गिरफ्तार

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : शिमला। घूस लेने का आरोप हल्का करने और आय से अधिक संपत्ति की जांच न करने के लिए विजिलेंस को 10 लाख रुपये की रिश्वत देने के आरोप में एक आरटीओ को गिरफ्तार किया गया। विजिलेंस ऊना की टीम ने आरोपी नालागढ़ के आरटीओ ओम प्रकाश पुरी को मैहतपुर से 10 लाख रुपये के साथ गिरफ्तार किया। एडीसी विजिलेंस अनुराग गर्ग के अनुसार पिछले दिनों विजिलेंस ऊना ने आरटीओ के खिलाफ कार्यालय में घूस लेने के आरोप में केस दर्ज किया था। आरोपी आरटीओ ने अपने ऊपर दर्ज इसी मामले को हल्का करने और उसके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति की जांच न करने को लेकर विजिलेंस के इंस्पेक्टर को दस लाख रुपये देने की पेशकश की थी। विजिलेंस टीम ने आरटीओ को रंगे हाथ पकड़ने का जाल बिछाया और मैहतपुर में पैसे देने की जगह तय की। मंगलवार सुबह आरटीओ निर्धारित जगह कार में पहुंचा। उसने कार में रखे बैग से दस लाख की नकदी विजिलेंस कर्मी को देनी चाहे, इसी दौरान स्वतंत्र गवाहों की मौजूदगी में विजिलेंस ऊना की टीम ने आरोपी आरटीओ ओम प्रकाश पुरी को 10 लाख रुपये रिश्वत देते रंगे हाथों दबोच लिया। विजिलेंस ने आरटीओ के पास से 20 पैकेट 500-500 रुपये के बरामद किए। उधर विजिलेंस ऊना के एएसपी सागर चंद ने बताया कि आरोपी के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम की धारा आठ तथा 12 के तहत एफआईआर दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। आरोपी को कल अदालत में पेश किया जाएगा। फरवरी में ऊना आरटीओ कार्यालय के वीडियो क्लिप वायरल हुए, जिसमें आरोपी आरटीओ पैसे लेते साफ दिख रहा था। एक वीडियो में आरटीओ अपने दफ्तर में कुर्सी पर बैठा है। उसे एक व्यक्ति ने अपने पर्स से नकदी दी, जिसे आरटीओ ने अपनी जेब में डाला। एक शिकायतकर्ता ने विजिलेंस को वीडियो की पूरी रिकॉर्डिंग सौंपी थी। विजिलेंस ने गहनता से जांच की और उसे आधार बनाकर विजिलेंस ने आरोपी आरटीओ पर भ्रष्टाचार एक्ट की धारा 7 और 8 के तहत मामला दर्ज किया था। मामला सामने आने पर आरोपी आरटीओ भूमिगत हो गया, जिसे पकड़ने के लिए विजिलेंस ने नालागढ़ और शिमला में भी दबिश दी थी। इसी मामले को हलका एवं रफा-दफा करने के लिए आरोपी आरटीओ ने विजिलेंस को दस लाख रुपये की रिश्वत देनी चाही।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com