उत्तर प्रदेश : जहरीली शराब से मौतों के बाद ग्रामीणों ने ठेके पर की तोड़फोड़, किया हाईवे जाम

एसडीएम ने समझाने का प्रयास किया, लेकिन ग्रामीणों ने जाम नहीं खोला।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : जहरीली शराब कांड में लगातार हो रही मौतों के बाद ग्रामीणों का गुस्सा फूटने लगा है। रविवार को सवेरे जहां ग्रामीणों ने एक देशी शराब के ठेके पर तोड़फोड़ कर कुछ शराब को आग लगा दी, वहीं आरोप है कि कुछ शराब की पेटियां लूटकर ले गये। इसके बाद अपराह्न ढाई बजे गागलहेड़ी में मुजफ्फरनगर-सहारनपुर स्टेट हाईवे पर स्थित गांव कोलकी के ग्रामीणों ने मुआवजे की धनराशि 20 लाख रुपये करने तथा मृतक के परिवार में एक को सरकारी नौकरी देने की मांग को लेकर हाईवे पर जाम लगा दिया। एसडीएम ने समझाने का प्रयास किया, लेकिन ग्रामीणों ने जाम नहीं खोला। प्रदर्शनकारियों में महिलाओं की संख्या अधिक है। वहां पुलिस फोर्स बुलाई गई है। कोलकी गांव में 15 लोगों की जिंदगी जहरीली शराब लील चुकी है।दोनों ही घटनाएं गागलहेड़ी थाना क्षेत्र में हुईं। चुन्हैटी व शरबतपुर गांव के बीच स्थित देशी शराब के ठेके पर सवेरे लगभग 11 बजे ग्रामीणों ने धावा बोल दिया। ग्रामीणों के तेवर देख कर वहां कार्यरत सेल्समैन भाग खड़े हुए। आरोप है कि ग्रामीणों ने ठेके में तोड़फोड़ कर कुछ शराब में ठेके बाहर आग लगा दी। सेल्समैन का यह भी आरोप है कि ग्रामीण ठेके में रखे 12 हजार रुपये नकद व 34 पेटी शराब की लूट कर ले गये। उधर, ग्रामीणों का आरोप है कि उक्त ठेके से शरबतपुर के ग्रामीण शराब खरीदते हैं। गांव शरबतपुर के तीन ग्रामीण जहरीली शराब की भेंट चढ़ चुके हैं।इसके बाद अपराह्न लगभग ढाई बजे गांव कोलकी के सैकड़ों ग्रामीणों ने महिलाओं को साथ लेकर स्टेट हाईवे पर जाम लगा दिया। एसडीएम सदर परमानंद झा पुलिस फोर्स लेकर मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया। कहा कि दो-दो लाख रुपये मुआवजे की घोषणा की जा चुकी है। फिर भी आपकी मांग को शासन तक पहुंचा दिया जाएगा। इसके बावजूद प्रदर्शनकारियों ने जाम नहीं खोला। इसके बाद एसपी सिटी प्रबल प्रताप सिंह व पूर्व विधायक जगपाल वहां पहुंचे और लोगों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन सायं चार बजे तक जाम जारी था और प्रसासन की कवायद जारी थी।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com