सेंसेक्स 197 अंक की बढ़त के साथ 35457 पर बंद, निफ्टी 10680 के स्तर पर बंद

कारोबार में निफ्टी ने 10,695 तक दस्तक दी थी जबकि सेंसेक्स 35,546 तक पहुंचने में कामयाब हुआ

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ): बाजार ने हफ्ते का अंत अच्छी तेजी के साथ किया है। सेंसेक्स और निफ्टी 0.5 फीसदी से ज्यादा मजबूत होकर बंद हुए हैं। आज के कारोबार में निफ्टी ने 10,695 तक दस्तक दी थी जबकि सेंसेक्स 35,546 तक पहुंचने में कामयाब हुआ था। अंत में निफ्टी 10,680 के पास बंद हुआ है और सेंसेक्स की 35,400 के ऊपर क्लोजिंग हुई है। हालांकि मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में दबाव देखने को मिला है। बीएसई का मिडकैप इंडेक्स सपाट होकर बंद हुआ है, जबकि निफ्टी के मिडकैप 100 इंडेक्स में 0.4 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स करीब 0.5 फीसदी कमजोर होकर बंद हुआ है। बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 197 अंक यानि 0.6 फीसदी की तेजी के साथ 35,457 के स्तर पर बंद हुआ है। वहीं, एनएसई का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 65.5 अंक यानि 0.6 फीसदी की उछाल के साथ 10,682 के स्तर पर बंद हुआ है। पीएसयू बैंक, फार्मा, आईटी और एफएमसीजी शेयरों में अच्छी खरीदारी देखने को मिली है। बैंक निफ्टी 0.4 फीसदी की बढ़त के साथ 26,245 के स्तर पर बंद हुआ है। हालांकि मेटल और ऑयल एंड गैस शेयरों में बिकवाली हावी रही। दिग्गज शेयरों में भारती एयरटेल, एचसीएल टेक, आयशर मोटर्स, ग्रासिम, रिलायंस इंडस्ट्रीज, हीरो मोटो, एसबीआई और एचडीएफसी 9.8-1.7 फीसदी तक उछलकर बंद हुए हैं। हालांकि दिग्गज शेयरों में यस बैंक, इंडियाबुल्स हाउसिंग, जेएसडब्ल्यू स्टील, टाटा स्टील, आईओसी, मारुति सुजुकी, ओएनजीसी और एक्सिस बैंक 7.2-1.4 फीसदी तक लुढ़क कर बंद हुए हैं। मिडकैप शेयरों में टाटा कम्युनिकेशंस, बजाज होल्डिंग्स, बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन होटल और अजंता फार्मा 5.9-3.4 फीसदी तक चढ़कर बंद हुए हैं। हालांकि मिडकैप शेयरों में रिलायंस इंफ्रा, रिलायंस कैपिटल, एंडुरेंस टेक, भारत इलेक्ट्रॉनिक्स और जिंदल स्टील 6.3-3.3 फीसदी तक गिरकर बंद हुए हैं। स्मॉलकैप शेयरों में आधुनिक इंडस्ट्रीज, इंडियन ह्युम पाइप, न्यूट्राप्लस इंडिया, सुप्रीम इंफ्रा और जेट एयरवेज 17-8 फीसदी तक मजबूत होकर बंद हुए हैं। हालांकि स्मॉलकैप शेयरों में इंफीबीम एवेन्यु, रेन इंडस्ट्रीज, टेक सॉल्यूशंस, डीएचएफएल और पटेल इंजीनियरिंग 10.2-7.4 फीसदी तक टूटकर बंद हुए हैं।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com