फ्रांस दौरे पर गईं भारतीय रक्षा मंत्री सीतारमण ने राफेल प्लांट का दौरा किया।

सीतारमण ने गुरुवार शाम को फ्रांस की रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ली के साथ दोनों देशों के बीच रणनीतिक एवं रक्षा तालमेल मजबूत करने पर चर्चा की।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : भारत की रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को दसॉ एविएशन के पेरिस के पास स्थित उस संयंत्र का दौरा किया जिसमें भारत को आपूर्ति किए जाने वाले राफेल विमान बनाये जा रहे हैं। आधिकारिक सूत्रों ने इसकी जानकारी दी। सीतारमण की फ्रांस यात्रा फ्रांसीसी कंपनी दसॉ एविएशन से 36 राफेल जेट विमानों की खरीद को लेकर देश में उठे भारी विवाद के बीच हुई है। आपको बता दें कि गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर राफेल डील पर सरकार से आठ सवाल पूछे थे। राहुल ने कहा था कि इस सौदे में सीधे पीएम नरेंद्र मोदी पर आरोप लग रहे हैं और वह अब तक इन आरोपों का जवाब नहीं दे सके हैं। इसलिए उन्हें इस्तीफा देना चाहिए। शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने इसके जवाब में प्रेस कॉन्फ्रेंस की और कहा कि राहुल गांधी ने इस डील पर देश से आठ झूठ बोले हैं। उन्होंने कहा कि राहुल ने अब तक अरुण जेटली, रविशंकर प्रसाद और निर्मला सीतारमण के सवालों के जवाब नहीं दिए हैं। सूत्रों के मुताबिक सीतारमण ने अर्जेंतेउल संयंत्र के भ्रमण के दौरान दसॉ एविएशन के अधिकारियों के साथ बातचीत की। उन्होंने भारत को भेजे जाने वाले राफेल विमान के विनिर्माण का जायजा भी लिया। दसॉ एविएशन राफेल विमान बनाती है। भारत ने फ्रांस से 36 राफेल विमान खरीदने के लिए 58 हजार करोड़ रुपये का करार किया है। भारत को इस विमान की आपूर्ति अगले साल सितंबर से शुरू होगी। सीतारमण ने गुरुवार शाम को फ्रांस की रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ली के साथ दोनों देशों के बीच रणनीतिक एवं रक्षा तालमेल मजबूत करने पर चर्चा की। यह बातचीत भारत-फ्रांस के रक्षा मंत्रियों की सालाना वार्ता के तहत हुई जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और फ्रांसीसी राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों के बीच शिखर वार्ता दौरान सहमति बनी थी। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि दोनों रक्षामंत्रियों के बीच परस्पर हित के विभिन्न द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता के बाद आपस में भी बातचीत हुई। दोनों पक्षों ने अपने सशस्त्र बलों खासकर समुद्री क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने के अलावा दोनों देशों द्वारा सैन्य मंचों और हथियारों के सह-उत्पादन पर चर्चा की गई। फिलहाल यह पता नहीं चल पाया है बातचीत के दौरान राफेल सौदा का मुद्दा उठा या नहीं। बुधवार को समाचार संगठन मीडियापार्ट ने खबर दी थी कि राफेल विनिर्माता दसॉ एविएशन को इस सौदे को हासिल करने के लिए भारत में अपने ऑफसेट साझेदार के तौर पर अंबानी की कंपनी रिलायंस डिफेंस को चुनना पड़ा। जब इन आरोपों के बारे में पूछा गया तो सीतारमण ने कहा कि सौदे के लिए ऑफसेट दायित्व अनिवार्य था, न कि कंपनियों के नाम। मीडियापार्ट की यह नवीनतम रिपोर्ट पूर्व फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के उस बयान के बाद आई है जिसमें उन्होंने कहा था कि फ्रांस को दसॉ के लिए भारतीय साझेदार चुनने के लिए कोई विकल्प नहीं दिया गया था। भारत सरकार ने इसी भारतीय कंपनी का नाम प्रस्तावित किया था। ओलांद जब फ्रांस के राष्ट्रपति थे तभी यह सौदा हुआ था। कांग्रेस इस सौदे में भारी अनियमितताओं का आरोप लगा रही है। कांग्रेस का कहना है कि सरकार 1670 करोड़ रुपये प्रति विमान की दर से राफेल खरीद रही है जबकि यूपीए सरकार के समय कीमत 526 करोड़ रुपये प्रति विमान तय हुई थी। कांग्रेस दसॉ के ऑफसेट पार्टनर के तौर पर रिलायंस डिफेंस के चयन को लेकर भी सरकार पर सवाल उठा रही है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com