केरल : बाढ़ के बाद अब आया संक्रामक बीमारियों का दौर, अब तक 50 की मौत।

बाढ़ के कारण राज्य के 104 लोगों को डेंगू और 50 से अधिक को मलेरिया होने की पुष्टि की गई है। इनमें लैप्टोस्पायरॉसिस के 4-5 अन्य मरीजों की हालत बेहद गंभीर होने से अब स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की चिंता बढ़ने लगी है।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : दूषित जल के कारण केरल में फैली लैप्टोस्पायरॉसिस के कारण अब तक कुल 6 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इसके अलावा 34 अन्य लोगों की मौत के पीछे भी लैप्टोस्पायरॉसिस का कारण होने की आशंका जताई जा रही है। इन मामलों के अलावा 9 लोगों की मौत बुखार और 1 की मौत डेंगू के कारण होने की पुष्टि हुई है। बता दें कि केरल में बाढ़ के कारण पिछले कई दिनों में लैप्टोस्पायरॉसिस के कई मामले सामने आ चुके हैं। राज्य के स्वास्थ्य निदेशालय के मुताबिक केरल में 15 अगस्त से लेकर अब तक लैप्टोस्पायरॉसिस के कुल 159 मामले सामने आ चुके हैं। इसके साथ ही बाढ़ के कारण राज्य के 104 लोगों को डेंगू और 50 से अधिक को मलेरिया होने की पुष्टि की गई है। इनमें लैप्टोस्पायरॉसिस के 4-5 अन्य मरीजों की हालत बेहद गंभीर होने से अब स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की चिंता बढ़ने लगी है। अधिकारियों का कहना है कि भले ही अभी बीमारियों का खतरा आपात स्थिति जैसा नहीं है, लेकिन लैप्टोस्पायरॉसिस के कारण 3-4 दिन के भीतर ही कई लोगों की मौत से सरकार चिंतित जरूर है। वहीं चिकित्सकीय विशेषज्ञों की माने तो केरल में वर्षा के बाद अगर जल्द ही गंदगी और बैक्टिरिया को रोकने के लिए जरूरी कदम नहीं उठाए जाते तो इससे बीमारियों का खतरा और बढ़ सकता है। बता दें कि केरल में इस साल आई बाढ़ के कारण 370 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 10 लाख से अधिक लोगों को अपने घरों से विस्थापित होना पड़ा है। बाढ़ की स्थितियों के बाद केरल के कई हिस्सों में वर्षा जनित बीमारियों के कारण कई लोगों की मौत हुई है। इस स्थिति को देखते हुए पिछले दिनों राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने एक 30 दिवसीय मास्टर प्लान भी बनाया था, हालांकि इसके बाद भी राज्य में बीमारियों की रोकथाम में कोई खास सफलता नहीं मिल सकी है। गौरतलब है कि केरल की बाढ़ के कारण प्रदेश में 370 लोगों की मौत के अलावा अर्थव्यवस्था को करीब 19 हजार करोड़ रुपये का नुकसान भी हुआ है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.